ग्रीस के लिए 145 अरब डॉलर का कर्ज़ मंज़ूर

ग्रीस में हिंसक प्रदर्शन

यूरो मुद्रा का इस्तेमाल करने वाले यूरोपीय यूनियन के 16 देशों के नेताओं ने ग्रीस के लिए अभूतपूर्व 145 अरब डॉलर के कर्ज़ को मंज़ूरी दे दी है.

ऐसा इसलिए किया गया है कि ताकि ग्रीस का आर्थिक संकट और न फैले.

ग़ौरतलब है कि हाल में ग्रीस के राष्ट्रपति ने कहा था कि उनका देश गर्त के मुहाने पर खड़ा है. राष्ट्रपति ने एक बयान के ज़रिए अपील की थी कि ये सभी की ज़िम्मेदारी है कि ग्रीस इस ओर न जा पाए.

आर्थिक संकट से गुज़र रहे ग्रीस में पिछले हफ़्ते बुधवार को हिंसक प्रदर्शन हुए थे और एक बैंक को आग लगा दी गई थी जिसके कारण तीन कर्मचारियों की मौत हो गई.

रविवार को यूरोपीय संघ में चर्चा

यूरोपीय कमिशन के अध्यक्ष जोस मैनूयल बारोसो ने कहा कि यूरो ज़ोन के देश ग्रीस की आर्थिक स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए जो ज़रूरी हुआ वो करेंगे.

ग्रीस को 145 अरब डॉलर का कर्ज़ तीन साल के लिए दिया गया है जिसके बदले में उसे अपने सरकारी ख़र्च में कमी लानी होगी.

महत्वूपर्ण है कि हाल में यूरो की कीमत गिर गई है क्योंकि चिंता जताई जा रही है कि स्पेन और पुर्तगाल जैसे देश भी इस आर्थिक समस्या की चपेट में आ सकते हैं.

इसीलिए यूरो ज़ोन के देशों के नेताओं ने तय किया कि उनके राष्ट्रीय बजट के बारे में नियम सख़्ती से लागू किए जाएँ.

नए नियमों को स्टेबिलिटी पेक्ट यानी स्थिरता संधी कहा गया है और इनके तहत राष्ट्रीय घाटे और बजट घाटे की सीमा तय की गई है.

रविवार को यूरोपीय संघ के सभी 27 देश इन प्रस्तावों पर विचार करेंगे.

उधर न्यूयॉर्क में लगाता दूसरे दिन शेयर बाज़ार कुछ अंक गिर कर बंद हुए हैं और आंशिक तौर पर इसे ग्रीस के अपने अंतरराष्ट्रीय कर्ज़ चुका न पाने को दोषी ठहराया जा रहा है.

संबंधित समाचार