फ़्रांस की सबसे बड़ी मस्जिद

Image caption फ़्रांस में सार्वजनिक स्थलों पर नकाब से पूरी तरह मुँह ढकने पर मनाही है

फ़्रांस में अब तक की सबसे बड़ी मस्जिद के निर्माण का काम शुरु हो गया है. कई दशकों की कोशिशों के बाद मार्से शहर में फ़्रांसीसी मुसलमानों को ये मस्जिद मिलेगी.

यहाँ की इबादतगाह में करीब सात हज़ार लोग नमाज़ अदा कर सकते हैं. इसके अलावा यहाँ एक स्कूल, लाइब्रेरी और रेस्तरां भी होगा.

मार्से में करीब दो लाख 50 हज़ार मुसलमान रहते हैं लेकिन इतनी बड़ी जनसंख्या वाले समुदाय के लिए कोई बड़ी मस्जिद नहीं थी.

पचास वर्षों से भी ज़्यादा समय से इस मस्जिद के लिए पैसे और निर्माण की अनुमति मांगी जा रही थी. दो करोड़ 70 लाख डॉलर की लागत वाली इस मस्जिद के लिए कुछ पैसा जुटाया जाना अभी बाकी है.

मुस्लिम बहुल देशों से इसके लिए पैसे की मदद माँगी जा रही है.

इस्लाम को लेकर बहस

वैसे फ़्रांस में इस्लाम की जगह और स्थान को लेकर बहस छिड़ी हुई है. अभी कुछ दिन पहले ही महिलाओं पर प्रतिबंध लगाया है कि वे सार्वजनिक स्थलों पर अपना मुँह पूरी तरह नकाब से नहीं ढँक सकतीं.

इस फ़ैसले के पीछे फ़्रांस के धर्म निरपेक्ष संविधान का हवाला दिया गया है. लेकिन इस तरह की बहस में ये भावनात्मक मुद्दा बार-बार उठ रहा है कि फ़्रांस के धर्म निरपेक्ष लोग पाँच या छह लाख मुसलमानों को किस नज़र से देखते हैं.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक मार्से में बनने वाली नई मस्जिद मुस्लिम समुदाय के लिए अच्छा संकेत है.

लेकिन पेरिस में मुस्लिम समुदाय के लोग अब भी एक ऐसी मस्जिद के लिए अभियान छेड़े हुए हैं जो उनकी जनसंख्या के अनुरूप हो और साथ ही उनकी धार्मिक श्रद्धा को भी दर्शाए.

संबंधित समाचार