जर्मनी के राष्ट्रपति ने इस्तीफ़ा दिया

हर्स्ट कोएलर
Image caption कोएलर को फ़ौज़ की तैनाती के बारे अपने बयान के बाद कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा था.

जर्मनी के राष्ट्रपति होर्स्ट कोएलर ने अचानक इस्तीफ़ा दे दिया है. वे विदेशों में जर्मन फ़ौज़ की तैनाती पर दिए गए अपने बयान के बाद कड़ी आलोचना का सामना कर रहे थे.

कोएलर ने कहा था कि अफ़गानिस्तान जैसी जगहों पर जर्मन फ़ौज़ की तैनाती को देश के आर्थिक हितों की सुरक्षा के साथ जोड़ कर देखा जाना चाहिए.

जर्मनी के कई राजनीतिज्ञों ने उनके इस बयान की कड़ी निंदा की थी. कोएलर पिछले ही साल पांच साल के लिए राष्ट्रपति चुने गए थे.

उन्होंने गत माह अफ़गानिस्तान के दौरे से लौटने के बाद एक रेडियो स्टेशन को दिए गए साक्षात्कार में ये विवादास्पद बयान दिए था.

उन्होंने कहा था कि जर्मनी जैसे देश के लिए ये ज़रुरी है कि वो अपनी फ़ौज़ की तैनाती अपने आर्थिक हितों के लिए करे.

अपना त्यागपत्र देते हुए कोएलर ने कहा, “जर्मनी के राष्ट्रपति पद पर रहना मेरे लिए गौरव की बात थी.”

कोएलर ने कहा कि उन्हें इस बात दुख है कि उनके बयान से एक जटिल मुद्दे पर ग़लतफ़हमी बढ़ी है.

अब जर्मनी की संसद के ऊपरी सदन के अध्यक्ष जेंन बोहरंसेन अंतरिम राष्ट्रपति होंगे. वे विपक्षी सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्य हैं.

बर्लिन में बीबीसी संवाददाता ओएना लंगेस्कु का कहना है कि राष्ट्रपति होर्स्ट कोएलर के बयान से चांसलर एंगेला मार्केल की सरकार को काफ़ी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था.

संबंधित समाचार