हत्या के सिलसिले में किशोर गिरफ़्तार

  • 17 जून 2010
नितिन गर्ग
Image caption नितिन गर्ग की हत्या से लोगों को भारी आघात पहुँचा था.

ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ने भारतीय छात्र नितिन गर्ग की हत्या के सिलसिले में एक 15 वर्षीय किशोर को गिरफ़्तार किया है.

इस साल जनवरी में नितिन गर्ग की छुरा मार कर हत्या की गई थी जिससे भारत में लोगों को बहुत धक्का लगा था.

इस किशोर को मेलबर्न शहर के एक उपनगर याराविल में बृहस्पतिवार को स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजे पकड़ा गया. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इस पर हत्या का अभियोग बाल अदालत में लगाया जाएगा.

विक्टोरिया की पुलिस की एक प्रवक्ता ने कहा कि जासूसों ने इस हत्या के सिलसिले में अन्य लोगों से भी पूछताछ की है और जांच अभी चल रही है.

भारत ने कहा है कि कैनबेरा स्थित भारतीय दूतावास और मेलबर्न के वाणिज्य दूत मामले पर बराबर नज़र रखे हुए हैं.

विक्टोरिया राज्य की सरकार ने मेलबर्न स्थित वाणिज्य दूतावार को इस गिरफ़्तारी के बारे में जानकारी दी थी कि नितिन गर्ग की हत्या के सिलसिले में एक किशोर को गिरफ़्तार किया गया है.

हत्या के मामलों की जांच पड़ताल करने वाले दल के डिटेक्टिव इंस्पैक्टर बर्नी ऐडवर्ड्स ने कहा, "हमारी जो पूछताछ चल रही है उससे ये नहीं लगता कि यह नस्लवाद से प्रेरित हमला था".

उन्होने बताया कि अभी वो छुरा बरामद नहीं हुआ है जिससे हमला किया गया था.

नितिन की हत्या

नितिन गर्ग की हत्या दो जनवरी 2010 में रात साढ़े नौ बजे के बाद हुई जब वो याराविल के हंग्री जैक में काम करने जा रहे थे.

छुरा मारे जाने के बाद नितिन किसी तरह गिरते पड़ते हंग्री जैक तक पहुंचे और कुछ देर बाद उनकी मृत्यु हो गई.

उनके पैसे, क्रैडिट कार्ड या और कोई क़ीमती चीज़ नहीं चुराई गई. बल्कि वो उस पार्क में इधर उधर पड़ी मिलीं जहां उनपर हमला हुआ था.

ये हत्या ऐसे समय हुई थी जब ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहे भारतीय छात्रों पर सिलसिलेवार कई हमले हो चुके थे.

इस मामले को भारत सरकार ने शीर्ष स्तर पर उठाया था और विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने इसकी कड़ी भर्त्सना की थी और हत्यारे को पकड़े जाने की मांग की थी.

संबंधित समाचार