विश्व कप बनाम एशिया कप

Image caption दक्षिण अफ़्रीक़ा के भारतीय देखना चाहते थे क्रिकेट का एशिया कप

दक्षिण अफ़्रीक़ा में चल रहे फ़ुटबॉल विश्व कप पर देश-दुनिया की नज़र है. उन देशों की भी जहाँ की टीम इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले रही.

दक्षिण अफ़्रीक़ा की बात करें, तो जो लोग स्टेडियम में नहीं जा पाते, वे फ़ैन ज़ोन्स में जाते हैं या फिर अपने घर में टीवी से चिपके रहते हैं. लेकिन हम भारतीयों के क्या कहने.

मैं जब एक भारतीय रेस्तरां में पहुँचा, तो रेस्तरां के कर्मचारी टीवी के चैनल लगातार बदल रहे थे और अपने अंदाज़ में अपना ग़ुस्सा भी निकाल रहे थे. मुझे उत्सुकता हुई.

मैंने उनसे पूछा, "भाई साहब बात क्या है...क्या हो गया". झल्लाए से रेस्तरां कर्मचारी बिफर पड़े. बोले," इनके पास इतने स्पोर्ट्स चैनल हैं, एक पर फ़ुटबॉल मैच दिखा रहे हैं और बाक़ी पर पुराने मैचों की रिकॉर्डिंग चला रहे हैं".

उनका ग़ुस्सा उफ़ान पर था, "इन्हें हमारी भी तो फ़िक्र करनी चाहिए. एशिया कप चल रहा है. भारत-पाकिस्तान का मैच है. इन्हें दिखाना चाहिए".

ख़ैर उनकी मंशा तो पूरी नहीं हुई पर ये ज़रूर पता चल गया कि हमारे देश में क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों को आगे आने में काफ़ी वक़्त लगेगा.

फ़ैन बना हीरो

आपकी नाराज़गी अगर आपकी अकेले की नहीं, बल्कि हज़ारों लोगों की नाराज़गी है लेकिन उसे व्यक्त आप करते हैं, ऐसे में हीरो तो आपको बनना ही है. यही हाल हुआ है इंग्लैंड के एक प्रशंसक का.

Image caption इंगलैंड के फ़ैन पावलॉव जोज़फ़ ने डेविड बेकम से सवाल किया और हीरो बन गए

अल्जीरिया के ख़िलाफ़ मैच में इंग्लैंड के ख़राब प्रदर्शन के बाद खिसियाए एक सज्जन सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए इंग्लिश खिलाड़ियों के ड्रेसिंग रूप में घुस गए.

उन्होंने ख़ास तौर से डेविड बेकम और बाक़ी इंग्लिश खिलाड़ियों से क्या कहा, ये तो पता नहीं, लेकिन वे आजकल इंग्लैंड फ़ैन्स के हीरो ज़रूर बन गए हैं.

इंग्लैंड के फ़ैन्स अपने खिलाड़ियों को छोड़ इन महाशय के मुरीद हो गए हैं और ये भी अंदाज़ा लगा रहे हैं कि उन्होंने इंग्लिश खिलाड़ियों से क्या कहा होगा और वे होते तो उन खिलाड़ियों से क्या कहते.

इंग्लैंड के प्रशंसक अपने व्यवहार के कारण पूरी दुनिया में चर्चित रहते हैं. इसलिए अगर टीम प्रतियोगिता से बाहर हुई, तो दक्षिण अफ़्रीक़ी सरकार अपने यहाँ भले इन पर लगाम लगा ले, ब्रिटेन में तो हंगामा होना स्वाभाविक है.

गर्ल फ़्रेंड का विवाद

स्पेन के कप्तान और गोलकीपर कैसियास की गर्ल फ़्रेंड को लेकर आजकल मामला गर्म है. पिछले दिनों स्पेन की टीम स्विट्ज़रलैंड के हाथों हार गई थी. मीडिया में इस तरह की ख़बरें आईं कि कैसियास का ध्यान खेल पर कम गर्ल फ़्रेंड पर ज़्यादा था.

दरअसल कैसियास की गर्ल फ़्रेंड सारा कारबोनेरो स्पेन की मशहूर टीवी प्रेज़ेंटर हैं और आजकल विश्व कप फ़ुटबॉल कवर कर रही हैं. खिलाड़ियों से बातें करती हैं और ख़ास तौर पर कैसियास से.

मीडिया में आई इन ख़बरों पर कैसियास ने तो अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है लेकिन स्पेन के खिलाड़ी अपने कप्तान के बचाव में आ गए हैं. राउल एल्बायोल ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा कि कैसियास एक अनुभवी खिलाड़ी हैं और उन्हें पता है कि वे यहाँ किसलिए हैं और उनका पूरा ध्यान विश्व कप जीतने पर है.

दरअसल कैसियास की गर्ल फ़्रेंड सारा की हर जगह उपस्थिति लोगों को खटक रही है और उस पर से ख़िताब की दावेदार स्पेन की टीम का स्विट्ज़रलैंड से पिट जाना.....अब दोष तो किसी का होगा ना...

संबंधित समाचार