रिपब्लिकन ने बनाया अश्वेत को उम्मीदवार

  • 24 जून 2010
निक्की हेले
Image caption निक्की हेले ने यह नामांकन एक श्वेत पुरुष को हराकर हासिल किया है.

अमरीका में प्राथमिक चुनाव के लिए हुए मतदान में एक अآफ्रीकी-अमरीकी ने दक्षिण कैरोलीना राज्य की एक संसदीय सीट के लिए रिपब्लिकन नामांकन हासिल किया है.

टिम स्कॉट नाम के ये रिपब्लिकन उम्मीदवार अगर नवंबर में होने वाले चुनाव में चुन लिए जाते हैं तो एक दशक बाद चुने जाने वाले वे पहले अश्वेत रिपब्लिकन सांसद होंगे.

इसके साथ ही उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्ध के बाद दक्षिण कैरोलीना का प्रतिनिधित्व करने वाले वे पहले अश्वेत होंगे.

दक्षिण कैरोलीना के गवर्नर पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी ने भारतीय-अमरीकी मूल की निक्की हेले का नामांकन किया है. इस पद के लिए चुनी जाने वाले वे पहली महिला उम्मीदवार हैं.

सोच में बदलाव

दक्षिण कैरोलीना परंपरागत रूप से श्वेत पुरुषों का गढ़ माना जाता है. ऐसे में रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से अफ्रीकी-अमरीकी और भारतीय मूल की उम्मीदवार का चुनाव यह संकेत देता है कि अमरीका के इस दक्षिण राजनीति का स्वरूप कुछ-कुछ बदल रहा है.

उन्नीसवीं सदी में अमरीकी गृह युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाले दक्षिणी कैरोलीना में नवंबर में अब एक रिपब्लिकन अश्वेत का मुकाबला डेमोक्रैट अश्वेत उम्मीदवार से होगा.

नामांकन हासिल करने के लिए टिम स्कॉट का मुकाबला दक्षिणी कैरोलीना के मशहूर सीनेटर स्ट्रॉम थर्मंड के पुत्र पॉल थर्मंड से था.

स्थानीय राजनेता के रूप में बेहद कामयाब रहे टिम स्कॉट ने कंज़रवेटिव टी पार्टी के कार्यकर्ताओं के समर्थन से आसानी से जीत हासिल कर ली.

इस तरह टिम रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से चुनाव लड़ रहे तीस से ज़्यादा अफ्रीकी-अमरीकी उम्मीदवारों में शुमार हो गए हैं.

इतनी बड़ी संख्या में अफ्रीकी-अमरीकी उम्मीदवारों को मौका देकर रिपब्लिकन पार्टी श्वेतों का समर्थन करने वाली अपनी छवि में बदलाव लाने की कोशिश कर रही है.

अगर टिम स्कॉट नवंबर के चुनाव में जीत जाते हैं तो रिपब्लिकन पार्टी जो कि राष्ट्रपति बराक ओबामा पर चुनाव के दौरान नस्लीय टिप्पणियाँ करती रही है, उसे टिम के बहाने अपनी छवि में बदलाव लाने का मौका मिल जाएगा.

निक्की हेले

दक्षिण कैरोलीना के गवर्नर पद के लिए निक्की हेले का चुना जाना भी बहुत महत्वपूर्ण है.

उन्होंने यह नामांकन एक श्वेत पुरुष उम्मीदवार को हराकर हासिल किया है.

पिछले दिनों चलाए गए एक कैंपेन में उनके खिलाफ नस्लीय टिप्पणियाँ की गई थीं. उनके चरित्र और धार्मिक पृष्ठभूमि को लेकर भी सवाल उठाए गए थे.

नवंबर में होने वाले चुनाव में टिम स्कॉट की तरह ही निक्की हेले के भी जीतने की संभावना जताई जा रही है.

संबंधित समाचार