ईंधन के ट्रैंकर में धमाके से 270 मरे, सैकड़ों घायल

कॉंगो में लड़ाके (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption कॉंगो हिंसा से ग्रस्त रहा है और वहाँ सेना में कई बार विद्रोह भी हुए हैं

अफ़्रीकी देश कॉंगो की पूर्वी सीमा के पास ईंधन से लदे एक ट्रक में धमाका हुआ है जिसके कारण 270 लोग मारे गए हैं.

ये ट्रक तंज़ानिया से आ रहा था और पूर्वी सीमा के पास सांगे गाँव के पास उलट गया. धमाका होने से पहले इसका इंधन पूरे गाँव में फैल गया.

कॉंगो की राजधानी किनशासा से बीबीसी संवाददाता थॉमस फ़ैसी के अनुसार, "संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता ओलामिदे अदेदेजी ने कहा है कि इस हादसे में कम से कम 270 लोग मारे गए हैं और सैकड़ों घायल हुए हैं."

'मैच देखते मारे गए'

शुक्रवार रात को ट्रक पलट गया. ये ट्रक अन्य ट्रकों के लिए इंतज़ार करने के लिए रुका था लेकिन उसके नीचे ज़मीन ही धंस गई.

जब ईंधन चारों ओर फैलने लगा तो गाँववासी एकत्र हो गए और उन्होंने ट्रक से लीक हो रहे ईंधन को एकत्र करने का प्रयास किया.

लेकिन इस बीच ट्रक में धमाका हो गया.

गाँव में फूस और मिट्टी के बने अनेक घरों में आग लग गई और ये ध्वस्त हो गए.

कॉंगों के अनेक सैनिक और उनके परिवार इस गाँव में रहते हैं जिसकी सीमा बुरुंडी से लगती है.

पर्यवेक्षकों का मानना है कि इस क्षेत्र में ऐसे हादसे कोई नई बात नहीं हैं क्योंकि जब भी कोई ट्रक या टैंकर पलट जाता है तो गाँववासी ईंधन एकत्र करने की कोशिश करते हैं.

कॉंगो के दक्षिणी किवु प्रांत की सरकार के प्रवक्ता विनसेंट काबांगा ने कहा, "तंज़ानिया से आ रहा एक टैंकर ट्रक सांगे गाँव में पलट गया है. ये बुकावु नगर से 70 किलोमीटर दूर है. लीक हो रहे पेट्रोल को इकट्ठा करने के लिए लोगों का तांता लग गया. इसके बाद ट्रक में धमाका हुआ और आग पूरे गाँव में फैल गई."

कॉंगो के सैन्य सूत्रों और रेड क्रॉस के मुताबिक अनेक लोग मारे गए हैं जबकि 100 अन्य घायल हुए हैं.

दक्षिणी किवु प्रांत के गवर्नर मारसिलिन सिसाम्बो का कहना है, "कई लोग तो ईंधन चुराते समय मारे गए लेकिन ज़्यादा लोगों की मौत तब हुई जब वे घरों के अंदर बैठे (विश्व कप फ़ुटबॉल) मैच देख रहे थे."

संबंधित समाचार