हो सकती है जासूसी एजेंटों की अदला बदली

अमरीका में कथित रूसी एजेंटों पर मुक़दमे की सुनवाई
Image caption अमरीकी अधिकारियों ने कहा है कि प्रशासन इस मामले को निपटाना चाहता है.

रूस से आ रही ख़बरों में कहा गया है कि अमरीका में कुछ दिन पहले जिन 10 रूसियों को जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था, उनकी रिहाई के बदले एक क़ैदी को छोड़ने की योजना पर विचार किया जा रहा है.

अमरीकी गुप्तचर एजेंसी सीआईए के लिए जासूसी करने के आरोप में रूस की जेल में बंद एक व्यक्ति आईगर सुत्याजिन के परिवार का कहना है कि इस व्यक्ति और कुछ अन्य लोगों की रिहाई हो सकती है.

आईगर सुत्याजिन के परिजनों ने कहा है कि उन्हें गुरूवार को रूस से वियना के ज़रिए लंदन की विमान उड़ान पर सवार किया जा सकता है.

हालाँकि इस तरह की ख़बरों पर न तो रूसी और न ही अमरीकी अधिकारियों ने कोई टिप्पणी की है.

ग़ौरतलब है कि अमरीकी राज्यों न्यूयॉर्क और वर्जीनिया में जून 2010 में 10 रूसियों को इस आरोप में गिरफ़्तार किया गया था कि वे पिछले लगभग 10 वर्षों से रूस सरकार के लिए जासूसी करने में लगे थे.

इस आरोप में 11वाँ व्यक्ति साइप्रस में गिरफ़्तार किया गया था लेकिन जब उसे ज़मानत पर रिहा किया गया तो वो लापता हो गया है.

गंभीर मामला

न्यूयॉर्क टाइम्स ने बुधवार को इस मामले से संबंधित अधिकारियों के हवाले से ख़बर प्रकाशित की कि अमरीकी प्रशासन इस मामले का जल्दी से जल्दी निपटारा चाहती है.

आईगर सुत्याजिन एक परमाणु वैज्ञानिक हैं. उन पर आरोप है कि उन्होंने ब्रिटेन की एक कंपनी को रूस की संवेदनशील जानकारी दी थी जिसके आरोप में उन्हें 15 वर्ष की जेल की सज़ा सुनाई गई थी.

आरोप ये भी था कि इस कंपनी को अमरीकी गुप्तचर एजेंसी सीआईए भी इस्तेमाल करती थी.

आईगर के भाई दिमित्री ने बताया कि आईगर को रूसी अधिकारियों ने कहा है कि उन्हें रिहा किया जाएगा और कुछ अन्य एजेंटों की रिहाई के बदले लंदन भेज दिया जाएगा.

सोमवार को कुछ अधिकारियों ने आईगर से जेल में मुलाक़ात की और उस मुलाक़ात में कुछ अमरीकी अधिकारी भी शामिल थे.

आईगर ने बताया कि उनसे एक हलफ़नामे पर दस्तख़त कराए गए हैं, हालाँकि वो ख़ुद को निर्दोष बताते हैं और रूस से बाहर नहीं जाना चाहते हैं.

सोमवार की इस मुलाक़ात के बाद आईगर को उत्तरी रूस स्थित जेल से मॉस्को की जेल में स्थानांतरित कर दिया गया.

आईगर के लिए काम करने वाली एक वकील अन्ना स्ताविस्कया ने रॉयटर्स को बताया कि उनके मुवक्किल ने रूसी क़ैदियों की रिहाई के बदले अपनी रिहाई के लिए रज़ामंदी ज़ाहिर कर दी है क्योंकि उनके सामने और कोई विकल्प नहीं बचा है.

वकील ने कहा, “उन्हें इस बारे में पूरी जानकारी है अन्यथा उनके सामने पूरी ज़िंदगी जेल में बिताने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा है और अगर ये होता है तो उनकी पूरी ज़िंदगी ही बिखर जाएगी, हालाँकि वो अब भी कहते हैं कि वो निर्दोष हैं.”

संबंधित समाचार