फ़्रांस में बुर्क़े पर रोक को मंज़ूरी

बुर्क़ा पहने महिलाएँ

कुछ और यूरोपीय देश इस तरह के प्रतिबंध की तैयारी कर रहे हैं

फ्रांस में संसद के निचले सदन ने सार्वजनिक स्थानों पर पूरे शरीर और चेहरे को ढँकने वाला बुर्क़ा पहनने पर रोक लगाने संबंधी क़ानून को भारी बहुमत से मंज़ूरी दे दी है.

नेशनल एसेंबली में इस क़ानून के समर्थन में 335 सांसदों ने मत दिया जबकि सिर्फ़ एक सांसद ने इसका विरोध किया.

सितंबर में संसद के ऊपरी सदन सीनेट की मंज़ूरी मिलने के बाद यह क़ानून बन जाएगा.

फ्रांस में आम जनमत बुर्क़े के ख़िलाफ़ है लेकिन पूरा बुर्क़ा पहनने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के लोग इसका विरोध कर रहे हैं.

क्लिक करें तस्वीरों में देखिए: पर्दे के कई रूप

मंगलवार को हुए मतदान में विपक्षी सोशलिस्ट पार्टी के सांसदों ने हिस्सा नहीं लिया, वे सिर्फ़ सार्वजनिक इमारतों में ही पूरे बुर्क़े पर रोक लगाने के पक्षधर थे.

राष्ट्रपति निकोला सार्कोज़ी ने इस प्रतिबंध का समर्थन किया है लेकिन उनके आलोचकों का कहना है कि वे अति दक्षिणपंथी फ्रांसीसी लोगों को ख़ुश करने के लिए यह क़दम उठा रहे हैं.

जुर्माना

फ्रांसीसी सरकार का कहना है कि पूरे चेहरे तथा शरीर को ढँकने वाले बुर्के़ महिलाओं के अधिकारों का हनन करते हैं और वे फ्रांस के धर्मनिरपेक्ष चरित्र के प्रतिकूल हैं.

पूरा बुर्का़ महिला-पुरुष समानता पर आघात है और फ्रांसीसी गणराज्य के मूल्यों के ख़िलाफ़ है

संसद में मई में पारित प्रस्ताव

नए क़ानून के तहत सार्वजनिक स्थान पर पूरा बुर्क़ा पहनने वाली महिलाओं पर 150 यूरो का जुर्माना लगाया जाएगा.

उन पुरुषों को तीस हज़ार यूरो तक जुर्माना भरना पड़ सकता है, जो महिलाओं को बुर्का़ पहनने के लिए बाध्य करेंगे.

संसद ने मई में एक प्रस्ताव पारित किया था जिसमें कहा गया था "पूरा बुर्का़ महिला-पुरुष समानता पर आघात है और फ्रांसीसी गणराज्य के मूल्यों के ख़िलाफ़ है."

फ्रांस की क़ानून मंत्री मिशेल एलियट मरी ने इन आरोपों को ग़लत बताया है कि किसी एक धर्म या समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है, उन्होंने कहा कि इस क़ानून में कहीं इस्लाम या मुसलमानों का नाम नहीं लिया गया है.

एक अनुमान के मुताबिक़ फ्रांस में दो हज़ार महिलाएँ पूरा बुर्क़ा पहनती हैं जबकि फ्रांस में मुसलमानों की आबादी पचास लाख के क़रीब है और ज्यादातर मुसलमान सरकार के इस निर्णय का विरोध करते हैं.

एक मुसलमान व्यापारी ने तो यहाँ तक कहा है कि वे लाखों यूरो वाला एक कोष बनाने जा रहे हैं जिसके ज़रिए पूरा बुर्क़ा पहनने वाली महिलाओं पर लगने वाला जु्र्माना भरा जाएगा.

इस क़ानून को यूरोपीय मानवाधिकार अदालत में चुनौती दी जा सकती है.

इस बीच स्पेन और बेल्जियम में भी इसी तरह का क़ानून बनाने पर विचार चल रहा है.

  • हिजाब
    अरबी भाषा में पर्दे को दर्शाने के लिए हिजाब शब्द का इस्तेमाल होता है. मुस्लिम महिलाएँ कई तरह के हिजाब पहनती हैं.ये कई रंगों में आते हैं.
  • नक़ाब
    नकाब़ वो पर्दा है जिससे चेहरा ढक जाता है लेकिन आँखों के आस-पास का हिस्सा देखा जा सकता है. इसके साथ सर पर स्कार्फ़ का इस्तेमाल किया जाता है.
  • ख़िमार एक लंबा पर्दा है जो कमर तक नीचे की ओर लटका रहता है. ये बाल, गर्दन और कंधों को पूरी तरह ढक लेता है लेकिन चेहरा नज़र आता है.
  • शायला एक लंबा और आयताकार स्कार्फ़ है जो खाड़ी के क्षेत्रों में लोकप्रिय है. इसे सर के इर्द-गिर्द लपेटा जाता है और कंधे पर पिन के ज़रिए टिकाया जाता है.
  • ईरान में घर से बाहर निकलते समय अकसर महिलाएँ चादर का इस्तेमाल करती हैं. आमतौर पर इसके साथ सर पर एक छोटे स्कार्फ़ का इस्तेमाल होता है.
  • बुर्क़े में पूरा चेहरा और बदन ढक जाता है और केवल एक जालीदार पर्दे के ज़रिए देखने की जगह होती है.
  • अल-अमीरा में दो चीज़ें रहती हैं जिसमें सर से चिपटा हुआ एक स्कार्फ़ शामिल रहता है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.