भारत क्षेत्रीय मसलों पर बर्मा को समझाए: अमरीका

  • 24 जुलाई 2010
क्रॉली
Image caption क्रॉली ने कहा भारत की ज़िम्मेदारी बनती है

अमरीकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत बर्मा को क्षेत्रीय सुरक्षा के संदर्भ में अपनी ज़िम्मेदारियाँ समझने के बारे में स्पष्ट संदेश भेजे. साथ ही अमरीका ने कहा है कि उसे भारत-बर्मा के रिश्तों से परमाणु प्रसार के बारे में कोई चिंता नहीं है.

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फ़िलिप जे क्रॉली ने शुक्रवार को पत्रकारों के सवालों के जवाब में ये विचार व्यक्त किए हैं.

उधर भारत और अमरीका ने आतंकवाद के ख़िलाफ़ सहयोग बढ़ाने पर एक अहम समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

घरेलू और क्षेत्रीय ज़िम्मेदारियाँ

बर्मा के बारे में क्षेत्रीय स्थिरता के संदर्भ में वहाँ के देशों को बाक़ी की दुनिया को दिलचस्पी है. जिन देशों के बर्मा के साथ रिश्ते हैं उनकी ज़िम्मेदारी है कि वे सीधे तौर पर और ज़ोर देकर बर्मा को उसकी घरेलू और क्षेत्रीय ज़िम्मेदारियों के बारे में बताएँ. भारत उन देशों में से एक है जिसके बर्मा के साथ संबंध हैं. हम भारत और अन्य देशों को प्रोत्साहित करेंगे कि वह बर्मा को स्पष्ट संदेश भेजे कि उसे अपना रास्ता बदलना होगा अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता क्रॉली

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता क्रॉली ने बर्मा के अधिकारियों की हाल में भारत यात्रा के बारे में सवाल के जवाब में बर्मा को उसकी ज़िम्मेदारी समझाने के बारे में कहा.

उनका कहना था, "बर्मा के बारे में क्षेत्रीय स्थिरता के संदर्भ में वहाँ के देशों को बाक़ी की दुनिया को दिलचस्पी है. जिन देशों के बर्मा के साथ रिश्ते हैं उनकी ज़िम्मेदारी है कि वे सीधे तौर पर और ज़ोर देकर बर्मा को उसकी घरेलू और क्षेत्रीय ज़िम्मेदारियों के बारे में बताएँ."

उनका कहना था, "भारत उन देशों में से एक है जिसके बर्मा के साथ संबंध हैं. हम भारत और अन्य देशों को प्रोत्साहित करेंगे कि वह बर्मा को स्पष्ट संदेश भेजे कि उसे अपना रास्ता बदलना होगा."

कई विषयों पर सहयोग

उधर भारत में अमरीकी राजदूत टिमुथी रोमर और भारत के गृह सचिव जीके पिल्ले ने 'आतंकवाद विरोधी सहयोग पहल' नाम के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

इसके तहत यातायात सुरक्षा, सीमा सुरक्षा, काले धन को सफ़ेद करना, आतंकवादियों को वित्तीय मदद और महानगरों में पुलिस व्यवस्था जैसे विषयों पर दोनों देश सहयोग करेंगे.

टिमुथी रोमर का कहना था, "राष्ट्रपति ओबामा और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने माना है कि अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद से सभी लोगों को एक जैसा ख़तरा है. इस समझौते के बाद आने वाले दिनों में दोनों देश बम धमाकों की जाँच, अत्यधिक सुरक्षा की ज़रूरत वाले दिनों में, महानगरों में पुलिस व्यवस्था पर, इंटरनेट और सीमा सुरक्षा पर और सहयोग जानकारी का आदान-प्रदान करेंगे."

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार