सबसे बुजुर्ग '30 साल' से मृत

जापानी पुलिस
Image caption पुलिस जबरन काटो के घर में घुसी

उन्हें टोक्यो का सबसे बुजुर्ग व्यक्ति माना जाता था, लेकिन जब अधिकारी सोगेन काटो को उनके 111वें जन्मदिन पर बधाई देने पहुँचे तो उन्हें बिस्तर पर एक कंकाल हो चुका शव मिला.

जापानी अधिकारियों को आशंका है कि काटो की मौत 30 साल पहले हो गई थी. अधिकारियों को उस समय संदेह हुआ जब वे अदाची वार्ड में काटो के पते पर उन्हें सम्मानित करने पहुँचे.

लेकिन उनकी पोती ने अधिकारियों से ये कहा कि काटो किसी से मिलना नहीं चाहते. पुलिस अब परिवारवालों के ख़िलाफ़ संभावित धोखाधड़ी के मामले की जाँच कर रही है.

अदाची वार्ड के एक अधिकारी टोमोको ल्वामत्सू ने बताया कि इस इलाक़े के कल्याण अधिकारियों ने इस साल के शुरू से ही काटो से मिलने की कोशिश की थी. लेकिन जब वे काटो से मिलने पहुँचे, तो उनके परिजनों ने उन्हें भगा दिया.

इसके बाद अधिकारियों को शक हुआ और उन्होंने पुलिस से जाँच करने की मांग की. बुधवार को पुलिस जबरन काटो के घर में घुसी.

पुलिस को घर से कंकाल में तब्दील हो चुका एक शव मिला, जो बिस्तर पर पड़ा हुआ था. माना जा रहा है कि यह काटो का शव है. शव के शरीर पर अंडरवियर और पायजामा था और शरीर कंबल से ढँका हुआ था.

पेंशन

एक रिपोर्ट के मुताबिक़ काटो के रिश्तेदारों ने पुलिस को बताया कि काटो ने 30 साल से भी ज़्यादा समय से अपने को इस कमरे में बंद कर लिया था और लिविंग बुद्धा बन गए थे.

लेकिन पता ये चला है कि काटो के परिजनो ने छह साल पहले उनकी पत्नी की मौत के बाद विधुर को मिलने वाली पेंशन के तहत 95 लाख येन (एक लाख नौ हज़ार डॉलर) की राशि काटो के बैंक खातों से निकाली.

इस राशि का कुछ हिस्सा तो हाल-फ़िलहाल में बैंक से निकाला गया. पेंशन अधिकारी भी काफ़ी समय से काटो से कोई संपर्क नहीं कर पाए थे.

टोक्यो के एक मेट्रोपोलिटन कल्याण अधिकारी ने कहा कि उनके परिजनों को इस बारे में निश्चित तौर पर पता होगा कि काटो इतने वर्षों से मृत हैं और परिजनों ने ऐसे व्यवहार किया कि जैसे वे कुछ जानते ही न हों.

संबंधित समाचार