ज़रदारी जा रहे हैं ब्रिटेन के दौरे पर

Image caption खुफ़िया अधिकारियों का दौरा रद्द हो जाने के बाद ज़रदारी के दौरे पर भी सवाल उठ रहे थे.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के बयानों से पाकिस्तान में उपजी कड़वाहट के बावजूद राष्ट्रपति आसिफ़ ज़रदारी इस मंगलवार को ब्रिटेन के दौरे पर जा रहे हैं.

पाकिस्तान और आतंकवाद पर भारत में प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के बयान पर विरोध जताने के लिए पाकिस्तानी ख़ुफ़िया अधिकारियों ने अपना ब्रिटेन दौरा रद्द कर दिया था.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसूफ़ रज़ा गिलानी ने भी एक सार्वजनिक बयान में नाराज़गी जताते हुए कहा कि कैमरन को ऐसे मामले कूटनीतिक मंच के ज़रिए उठाने चाहिए.

ज़रदारी पहले यूरोप के दौरे पर जा रहे हैं और वहीं से वो ब्रिटेन जाएंगे.

पाकिस्तानी अधिकारियों ने उम्मीद जताई है कि ज़रदारी और कैमरन की बातचीत ‘सार्थक’ होगी.

पाकिस्तान के सूचना मंत्री क़मर ज़मान काइरा ने कहा है कि राष्ट्रपति ज़रदारी की मंगलवार को होनेवाली ब्रिटेन यात्रा जारी रहेगी और दोनों देशों के संबंध मज़बूत हैं.

कैमरन ने अपने भारत दौरे के दौरान कहा था कि वो एक मज़बूत, स्थिर और लोकतांत्रिक पाकिस्तान देखना चाहते हैं.

Image caption प्रधानमंत्री कैमरन ने भारत में दिए बयान को सही ठहराया है.

साथ ही उन्होंने कहा था, “ हम ये कभी नहीं बर्दाश्त करेंगे कि पाकिस्तान दोमुंही बात करे और भारत, अफ़गानिस्तान या दुनिया के किसी हिस्से में आतंकवाद को बढ़ावा दे.”

उनका ये बयान विकीलीक्स वेबसाइट पर लीक हुए उन दस्तावेज़ों के बाद था जिनमें पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसियों पर चरमपंथियों के साथ साठगांठ का आरोप था.

कैमरन के बयान पर पाकिस्तान में काफ़ी नाराज़गी है और ख़बरें आ रही हैं कि पाकिस्तान ब्रिटेन के राजदूत को बुलाकर औपचारिक रूप से अपना विरोध ज़ाहिर करेगा.

कैमरन ने ये बयान भारत में दिया इससे और ज़्यादा नाराज़गी फैली है और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा है कि कैमरन को भारतीय कश्मीर में हो रहे “मानवाधिकार हनन” की भी आलोचना करनी चाहिए थी.

संबंधित समाचार