हमले की साज़िश में दो लोग दोषी

Image caption अभियोजन पक्ष के मुताबिक अब्दुल ने हमले की योजना बनाने में मदद की

अमरीका में न्यूयॉर्क के जेएफ़के हवाईअड्डे पर ईंधन के टैंक उड़ाने की साज़िश के आरोप में दो लोगों को दोषी पाया गया है.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक रसल डेफ़्रीटास और अब्दुल कादिर ने 2007 में योजना बनाई थी कि ईंधन डीपो में आग लगाकर बड़ा धमाका किया जाए. डेफ़्रीटास पूर्व में हवाईअड्डे में ही काम करते थे.

अब्दुल कादिर पर इस योजना के लिए पैसा जुटाने का आरोप था. इन लोगों के वकील का कहना था कि पुलिस मुखबिर ने उन्हें गुमराह किया था.

लेकिन अभियोजन पक्ष के मुताबिक रसल और अब्दुल ने इस्लामिक चरमपंथियों की मदद ली थी और हज़ारों लोगों को मारने की योजना थी.

अभियोजन पक्ष का कहना था कि रसल ने हवाईअड्डे का वीडियो शूट किया और भागने के रास्तों का अध्ययन किया था.

अब्दुल और रसल की टेप की हुई बातचीत से पता चलता है कि अब्दुल ने अपने कथित साथियों से कहा था कि वे हमले के लिए गूगल अर्थ सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करें.

हालांकि 58 वर्षीय कादिर ने कोर्ट में कहा कि उन्होंने साज़िश रचने वालों को आगाह किया था इस्लाम इस बात का समर्थन नहीं करता कि मासूम लोगों को मारा जाए.

एक अन्य व्यक्ति अब्दुल नूर ने अपनी भूमिका कबूल कर ली है और उन्हें सज़ा दी जानी है.

संबंधित समाचार