कैंपबेल ने कहा, 'ख़राब से पत्थर मिले थे'

Image caption कैंपबेल के पूर्व एजेंट का कहना है कि उन्होंने टेलर को यह कहते हुए सुना था कि वे हीरे भिजवा रहे हैं

सुपरमॉडल नाओमी कैंपबेल ने कहा है कि लाइबेरिया के पूर्व राष्ट्रपति चार्ल्स टेलर के साथ रात्रिभोज के बाद उन्हें 'ख़राब से दिखने वाले' कुछ पत्थर दिए गए थे.

उनका कहना है कि ये पत्थर हीरे हो सकते हैं.

नाओमी कैंपबेल पूर्व राष्ट्रपति चार्ल्स टेलर के ख़िलाफ़ चल रहे युद्धापराध के मुक़दमे में बयान देने के लिए तलब की गईं थीं.

उन पर आरोप हैं कि 1997 में चार्ल्स टेलर ने उन्हें हीरे उपहार में दिए थे.

इन हीरों को 'ब्लड डायमंड्स' यानी ख़ून से सने हुए हीरे कहा जाता है क्योंकि माना जाता है कि इन्हीं हीरों की ब्रिकी से अर्जित धन से चार्ल्स टेलर ने पड़ोसी देश सियरा लिओन के गृहयुद्ध में सहयोग किया था.

चार्ल्स टेलर इन आरोपों का खंडन करते हैं. उनका कहना है कि उन्होंने हथियारों के लिए कभी हीरों का सौदा नहीं किया.

शपथ

कुछ देर से अदालत में उपस्थित हुई नाओमी ने बाइबिल पर हाथ रखकर शपथ ली.

उनका कहना है कि दक्षिण अफ़्रीका में बहुत से प्रतिष्ठित लोगों के लिए आयोजित रात्रिभोज के बाद उन्हें दो या तीन अनगढ़ पत्थर दिए गए थे.

इस भोज का आयोजन दक्षिण अफ़्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला ने किया था और इसमें अमरीकी अभिनेत्री मिया फ़ैरो और अन्य लोगों ने हिस्सा लिया था.

उनका कहना है कि रात में वे सो रहीं थीं जब किसी ने उनका दरवाज़ा खटखटाया और दो व्यक्तियों ने एक पाउच देते हुए कहा, "आपके लिए तोहफ़ा है."

नाओमी का कहना है कि उन्होंने यह देखे बिना कि उस पाउच में क्या है, उसे बिस्तर के बगल में रखा और फिर सो गईं.

उन्होंने अदालत को बताया, "अगली सुबह मैंने पाउच खोलकर देखा तो मैंने पाया कि उसमें बहुत छोटे से कुछ ख़राब के दिखने वाले पत्थर थे. उनके साथ ऐसा कोई नोट्स भी नहीं था जिससे इसे समझा जा सकता."

नाओमी कैंपबेल का कहना है कि सुबह नाश्ते पर उन्होंने इसका ज़िक्र मिया फ़ैरो और अपने पूर्व एजेंट कैरोल व्हाइट से किया तो दोनों में से एक ने कहा, "निश्चित तौर पर ये चार्ल्स टेलर हैं." कैंपबेल का कहना है कि उनका भी अनुमान यही था.

उनका कहना है कि उस समय वे अनगढ़ हीरों के बारे में किसी क़ानून से वाकिफ़ नहीं थीं.

सुपर मॉडल का कहना है कि उन्होंने वे पत्थर नेल्सन मंडेला चिल्ड्रन फंड के जेरेमी रैटक्लिफ़ को दे दिए थे क्योंकि वे चाहती थीं कि यह किसी धर्मार्थ कार्य के लिए उपयोग में आ जाए.

उन्होंने अदालत को बताया कि वर्ष 2009 में जब उन्होंने रैटक्लिफ़ को फ़ोन किया था तो उन्होंने बताया कि पत्थर अभी तक उनके पास हैं.

लेकिन बचाव पक्ष ने नेल्सन मंडेला चिल्ड्रन्स फंड की ओर से जो पत्र अदालत में पेश किया गया है उसमें कहा गया है कि 'नाओमी कैंपबेल या किसी और की ओर से उन्हें कभी हीरा या हीरे नहीं मिले. ऐसा करना तो ग़ैर क़ानूनी होता.'

मुक्ति की चाहत

Image caption चार्ल्स टेलर इस बात से इनकार करते हैं कि उन्होंने हथियार के लिए हीरे का सौदा किया

नाओमी ने बचाव पक्ष के वकील कोर्टने ग्रिफ़िथ ने कहा कि भोज में वे चार्ल्स टेलर के बगल में नहीं बैठी थीं जैसा कि उनके (कैंपबेल के) के पूर्व एजेंट कैरोल व्हाइट ने अदालत को बताया है.

अपने बयान में कैरोल व्हाइट ने बताया था कि पूरे रात्रिभोज के दौरान कैंपबेल और चार्ल्स टेलर एक दूसरे से हल्की छेड़छाड़ करते रहे थे.

इस सवाल पर कि कैरोल व्हाइट ने चार्ल्स टेलर को यह कहते हुए सुना था कि वे उनके (कैंपबेल) के लिए तोहफ़े में हीरे भिजवा रहे हैं, यह सच या नहीं? तो कैंपबेल ने जवाब दिया, "यह बिल्कुल भी सच नहीं है."

नाओमी कैंपबेल से पूछा गया कि क्या वे नर्वस हैं तो उन्होंने कहा, "मैं यहाँ नहीं आना चाहती थी लेकिन मुझे यहाँ लाया गया है. अब मैं इससे मुक्त होना चाहती हूँ क्योंकि यह बहुत असुविधाजनक है."

उनका कहना था कि उन्होंन पहले पत्थर मिलने से पहले इसलिए इनकार किया था क्योंकि उन्होंने इंटरनेट पर पढ़ा था कि ऐसा माना जाता है कि चार्ल्स टेलर ने हज़ारों लोगों को मारा.

नाओमी के पास पत्थर होने की बात मिया फ़ैरो के बयान से सामने आई थी.

संबंधित समाचार