चीन में भूस्खलन, 127 मौतें

  • 8 अगस्त 2010
भूस्खलन
Image caption चीन का ज़ोखू प्रांत बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

चीन के उत्तर पश्चिम इलाक़ों में ज़बर्दस्त बारिश के बाद हुए भूस्खलन में अब तक 127 लोगों की मौत हो गई है और क़रीब 13 हज़ार लोग लापता हैं.

प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने प्रभावित इलाक़े का दौरा किया है. उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि ‘‘लोगों की जान बचाने में कोई कसर न छोड़ी जाए.’’

तिब्बत का गांसू प्रांत सबसे अधिक प्रभावित हुआ है जहां तीन हज़ार सैनिकों को और 100 डॉक्टरों को राहत कार्य के लिए भेजा गया है.

रिपोर्टों के अनुसार अभी तक 45 हज़ार लोगों को इन इलाक़ों से निकाला जा चुका है.

स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि कुछ स्थानों पर तीन तीन फीट गहरे मिट्टी के दलदल हैं जिससे राहत कार्यों में बाधा पहुंच रही है.

इस साल दक्षिणी और मध्य चीन में साल भर बारिश और बाढ़ की घटनाओं में अब तक 1400 लोगों की मौत हो चुकी है, पंद्रह लाख से अधिक घर तबाह हो चुके हैं जबकि एक करोड़ से अधिक लोग बेघर हो चुके हैं.

सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ का कहना है कि शनिवार को ज़बर्दस्त बारिश के बाद भूस्खलन हुआ.

घटना के बाद ज़ोखू शहर पूरी तरह कीचड़ में डूब गया. यह शहर बालोंग नदी की घाटी में स्थित है.

ज़ोखू के एक निवासी का कहना था, ‘‘ भयंकर गरज के साथ बारिश हुई और फिर ज़मीन धंसने लगी. यह आधी रात में हुआ और ज़्यादातर लोग सो रहे थे. किसी को पता नहीं चला क्या हो रहा है.’’

शहर के पास ही एक बाँध था जहां तीन किलोमीटर की झील बन गई है और इसमें से पानी कीचड़ शहर में जा रहा है.

कुछ निवासियों का कहना है कि पाँच तलों वाले घर भी डूब गए थे.

ज़ोखू शहर से मिल रही तस्वीरों में साफ़ है कि कितनी भयंकर तबाही हुई है. इन तस्वीरों में कीचड़, पानी और टूटी कारों के अलावा और कुछ नहीं दिखता है.

लोगों का कहना है कि इस इलाक़े में पहले भी भूस्खलन हुआ है लेकिन ऐसी तबाही कभी नहीं मची.

संबंधित समाचार