चीन में भूस्खलन से 700 लोगों की मौत

चीन

चीन के उत्तर पूर्वी इलाक़े में भूस्खलन से लगभग 700 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि एक हज़ार से भी ज़्यादा लोग लापता हैं.

पिछले एक दशक में चीन में आई बाढ़ की यह सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई है.

गांसू में बीबीसी संवाददाता क्रिस हॉग बताते हैं कि इमारतों से भारी मात्रा में मिट्टी की शक्तिशाली दीवार के टकराने से सात मंज़िला इमारतें काग़ज़ की तरह ढह गईं.

उन्होंने बताया कि पहाड़ी इलाक़ों में बचाव दल के लोग लापता लोगों की खोज में जुटे हुए हैं.

इस आपदा में 50 घंटे तक मलबे के नीचे दबे होने के बाद एक 52 साल के शख़्स को ज़िंदा बाहर निकाल लिया गया है.

बचने की संभावना कम

वहाँ की मीडिया में राहत और बचाव दल के लोगों के बयान सामने आ रहे हैं जिसमें उन्होंने कहा है कि हादसे के इतनी देर बाद किसी के ज़िंदा होने की संभावना बहुत कम है.

बीबीसी संवाददाता क्रिस हॉग ने कहा है कि समय बीतने के साथ-साथ लोगों के ज़िंदा बचे होने की उम्मीदें भी कम होती जा रही हैं.

उन्होंने कहा, "मेरे आसपास लापता लोगों के परिजन बैठे हुए हैं, बिल्कुल हैरान और परेशान हैं. इनमें हर एक शख़्स की कहानी किसी के भी दिल को छू ले. एक महिला ने अपने पति और तीन युवा बच्चों को हमेशा के लिए खो दिया है. जब तक उन्होंने उनके शव अपनी आँखों से नहीं देख लिए तब तक वे उनकी मौत की ख़बर मानने के लिए तैयार नहीं थीं."

मंगलवार को बाढ़ से मरने वालों की संख्या 337 हो गई थी और अधिकारियों ने आशंका जताई थी कि आने वाले कुछ घंटों में ये आँकड़ा बढ़ सकता है.

ख़राब मौसम

मौसम विभाग का अनुमान है कि आने वाले कुछ दिनों में तेज़ बारिश हो सकती है जिसकी वजह से राहत और बचाव कार्य में दिक्क़तें आ सकती हैं.

बीजिंग में बीबीसी के संवाददाता माइकल ब्रिस्टो ने कहा है कि आगे भी कई जगहों पर भूस्खलन होने की आशंका जताई जा रही है.

Image caption भारी मात्रा में मिट्टी इमारतों से टकरा गई जिससे सात मंज़िला इमारतें भी काग़ज़ की तरह ढह गईं हैं.

गांसू में शनिवार देर रात बारिश से ज़मीन खिसक गई थी.

भूस्खलन के मल्बे से नदी का पानी रुक गया था जिसके कारण जल स्तर बढ़ गया था. इससे पानी समेत मिट्टी और पत्थर पहाड़ों से नीचे घरों पर जा गिरे.

चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने इस इलाक़े का दौरा किया और राहत और बचाव दल से अपील की कि वो लोगों को बचाने में पूरी मेहनत करें.

चीन पिछले एक दशक की सबसे भीषण बाढ़ से जूझ रहा था जिसमें अब तक 2,100 से भी ज़्यादा लोगों की या तो मौत हो गई या फिर लापता हैं. इस बाढ़ से देशभर में लाखों लोग बेघर हो गए हैं.

समाचार एजेंसी शिनहुआ ने बताया है कि राष्ट्रपति हू जिंताओ ने मंगलवार को वरिष्ठ मंत्रियों की एक बैठक में इस आपदा से निपटने के तरीक़ों पर चर्चा की है.

घटनास्थल पर 7,000 से ज़्यादा जवान, दमकल विभाग के कर्मचारी और चिकित्सक मदद पहुँचाने के लिए मौजूद हैं.

प्रशासन ने प्रभावित लोगों के लिए पानी, खाना और टेंट तो भिजवा दिए हैं लेकिन वहाँ के रास्ते और पुल के ख़राब होने की वजह से कुछ सामग्री प्रभावित क्षेत्र तक नहीं पहुँच पा रही हैं.

संबंधित समाचार