बर्मा में नंवबर में होंगे चुनाव

आंग सान सू ची
Image caption आंग सान सू ची बीस साल से हिरासत में हैं और वे इस चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगी.

बर्मा ने बीस साल बाद सात नंवबर को देश में चुनाव करवाने की घोषणा की है.

देश में पिछले चुनाव 1990 में हुए थे. उन चुनावों में लोकतंत्र की हिमायती और नज़रबंद नेता आंग सान सू ची की पार्टी ‘नेशनल लीग फ़ॉर डेमोक्रेसी’ को प्रचंड बहुमत मिला था.

लेकिन बर्मा को फ़ौजी शासकों ने चुनाव के नतीजों की स्वीकार करने से इनकार कर दिया था.

आलोचकों का कहना है कि ये चुनाव एक ‘ढोंग’ हैं क्योंकि इस बार संसद की 25 फ़ीसदी सीटें पहले से ही सेना के लिए आरक्षित कर दी गईं हैं.

चुनावों के लिए 40 राजनीतिक दलों ने पंजीकरण करवाया है लेकिन सू ची की पार्टी ने इन चुनावों में हिस्सा लेने से मना कर दिया था और अब उसे भंग कर दिया गया है.

सेना के लिए आरक्षण के अलावा कई नए दलों को भी फ़ौज के प्रतिनिधि के रुप में देखा जा रहा है.

सू ची भी इन चुनावों में हिस्सा नहीं ले सकतीं क्योंकि वे कई अन्य लोकतंत्र के पक्षधर कार्यकर्ताओं की तरह अपराध के मामलों में हिरासत में हैं.

संबंधित समाचार