अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी ठिकानों पर तालिबानी हमला

  • 28 अगस्त 2010
Nato Base
Image caption हमले में लगभग 30 तालिबानी लड़ाके शामिल हैं.

कुछ संदिग्ध तालिबानी घुसपैठियों ने अफ़ग़ानिस्तान के पश्चिमी इलाके में नेटो के दो सैन्य ठिकानों पर हमला किया है.

ख़बरों के मुताबिक रॉकेटों और ग्रेनेडों से लैस 50 से अधिक तालिबान लड़ाकों ने इस हमले में हिस्सा लिया.

नेटो का कहना उन्होंने हेलीकॉप्टर की मदद से तालिबान के हमले को विफल कर दिया है. नेटो के मुताबिक उन्होंने अपने एक ठिकाने पर 15 और दूसरे पर छह चरमपंथियों को मार दिया है.

ये हमले पाकिस्तान की सीमा से सटे अफ़गानिस्तान के खोस्त प्रांत में हुए हैं. इसी इलाके में संयुक्त सुरक्षा बल के ये सैन्य ठिकाने मौजूद हैं.

इससे पहले तालिबान के एक प्रवक्ता ने समाचार एजेंसियों को बताया था कि इस हमले में लगभग 30 तालिबानी लड़ाके शामिल हैं. इनमें कुछ आत्मघाती भी शामिल हैं.

‘गुरिल्ला हमले’

काबुल में मौजूद बीबीसी संवाददाता का कहना है कि तालिबानी विद्रोही इस तरह के हमलों में गुरिल्ला शैली अपना रहे हैं और घात लगातर हमला करते हैं.

जिन सैन्य ठिकानों पर हमला किया गया है उनमें से एक 'चैपमैन कैंप' है. पिछले साल दिसंबर महीने में भी इस कैंप पर हमला किया गया था. इस हमले के दौरान एक आत्मघाती ने अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी 'सीआईए' के सात कर्मचारियों को मार दिया था.

स्थानीय पुलिस प्रमुख अब्दुल हाकिम इस्हाक़ज़ई ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि शनिवार को तड़के सुबह विद्रोहियों ने रॉकेट से हमले किए और सैन्य ठिकानों पर गोलीबारी शुरु कर दी.

उनकी तरफ़ से कुछ समय के लिए गोलीबारी रुकी और अब वो इन ठिकानों के पास बने एक स्कूल पर कब्ज़ा करने की कोशिश में हैं.

आमिर शाह नामक एक स्थानीय निवासी ने बताया, ''मेरे घर के आसपास हर तरफ़ से गोलियों की आवाज़ आ रही है. मुझे डर है कि हमलावर कहीं मेरे घर में न घुस जाएं. नेटो की जवाबी कार्रवाई में बमबारी का ख़तरा भी हम पर मंडरा रहा है.''

कमांडर गिरफ़्तार

इस हफ़्ते की शुरुआत में सहायता बल ने घोषणा की थी कि उसने खोस्त में तालिबान के एक स्थानीय कमांडर को पकड़ा है. हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है कि ये हमले इस गिरफ़्तारी के जवाब में किए गए हैं या नहीं.

इस बीच पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारियों ने कहा है कि पाकिस्तानी सीमा पर अमरीका के एक संदिग्ध मिसाइल हमले में चार तालिबान चरमपंथियों की मौत हो गई है.

संबंधित समाचार