मैक्सिको की खाड़ी में फिर विस्फ़ोट

  • 3 सितंबर 2010
तेल के कुंए पर काम रहा जहाज
Image caption तेल के कुंए का संचालन अमरीकी कंपनी ‘मैरिनर एनर्जी’ कर रही है

अमरीका की मैक्सिको की खाड़ी में एक तेल के कुँए में विस्फ़ोट के बाद लगी आग पर काबू पा लिया गया है.

विस्फ़ोट के बाद कुँए के आस-पास एक मील के हिस्से में पानी पर तेल की परत फैल गई है. इस तेल के कुँए का संचालन अमरीकी कंपनी ‘मैरिनर एनर्जी’ कर रही है.

कुँए में विस्फ़ोट की खबर एक कमर्शियल हैलिकॉप्टर के ज़रिए मिली.

विस्फ़ोट के दबाव से कुँए पर तैनात 13 कर्मचारी उछल कर पानी में जा गिरे. सभी कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. एक कर्मचारी के घायल होने की खबर है.

विस्फ़ोट के बाद तेल के कुँए में आग लग गई थी. अमरीकी आंतरिक सुरक्षा विभाग का कहना है कि इस कुँए से तेल या गैस का उत्पादन नहीं हो रहा था.

आग पर काबू पाने और मौके पर स्थिति का जायज़ा लेने के लिए हैलिकॉप्टर, बोट और हवाई जहाज रवाना कर दिए गए हैं.

बचाव कार्य

कोस्ट गार्ड एडवर्ड का कहना है, ''फिलहाल हमारा पूरा ध्यान बचाव कार्यों पर है. हालात काबू में आने का बाद ही हम घटना के कारणों को जानने की कोशिश में जुटेंगे.''

विस्फ़ोट की जगह स्थित नियंत्रण में करने के लिए लुज़ियाना, टेक्सास, और एलाबामा प्रांत से कोस्ट गार्ड के सात हैलिकॉप्टर, दो हवाई जहाज और कटाई में काम आने वाले तीन उपकरण भेजे गए हैं.

यह विस्फ़ोट लुज़ियाना तट से सटे ‘वर्मिलियन बे’ से 130 किलोमीटर दूर दक्षिणी हिस्से में हुआ. घटनास्थल उस जगह से लगभग 150 किलोमीटर की दूरी पर है जहां अप्रैल में ब्रितानी कंपनी ब्रिटिश पेट्रोलियम (बीपी) के तेल कुँए में विस्फ़ोट हुआ था.

ड्रिलिंग पर रोक

बीपी के तेल के कुँए में हुए धमाके के कारण खाड़ी में लगभग 20 करोड़ गैलन तेल का रिसाव हुआ है. यह तेल लुज़ियाना और अलाबामा प्रांत के समुद्र तटों तक पहुँच गया था. इस हादसे में 11 लोगों की मौत भी हो गई थी.

मैक्सिको की खाड़ी में तेल के कुँए में यह दूसरा विस्फ़ोट उस समय हुआ है जब अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने वहां ड्रिलिंग पर रोक लगा दी है.

ओबामा का कहना है कि जब तक 'डीपवाटर होराइज़न' से हुए रिसाव के सही कारणों का पता नहीं चल जाए वहां पर रोक लगाना ज़रूरी है जिससे आगे ऐसी घटनाएं नहीं हों.

दक्षिणी राज्यों के नेताओं ने तेल की ड्रिलिंग पर लगे छह महीने के प्रतिबंध को हटाने की अपील की है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार