फ़लस्तीनी शांति के लिए तैयार: अब्बास

  • 26 सितंबर 2010
महमूद अब्बास
Image caption अब्बास का कहना है कि वो इसराइल के साथ मित्रता की इच्छा रखते हैं और इसके लिए लोग तैयार भी हैं

फ़लस्तीनी नेता महमूद अब्बास का कहना है कि फ़लस्तीनी लोग इसराइल के साथ समग्र और न्यायपूर्ण शांति समझौते के लिए तैयार हैं.

अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा कि इसराइल को शांति और विवादित क्षेत्र में नई बस्तियां बसाने के बीच में एक विकल्प चुनना होगा.

इसराइल और फ़लस्तीनी प्रशासन के बीच बातचीत 20 महीने तक रुकी रहने के बाद सितंबर महीने में शुरु हुई है.

फ़लस्तीनियों का कहना है कि वो शांति की इच्छा रखते हैं लेकिन अगर इसराइल ने पश्चिमी बैंक में बस्तियां बनाने पर रोक नहीं लगाई तो वो भी शांति के प्रयास रोक देंगे.

फिलहाल इसराइल ने बस्तियों के निर्माण पर रोक लगा रखी है लेकिन ये समयसीमा रविवार को समाप्त हो रही है.

इसराइल ने अभी तक बस्तियां बनाने पर लगी रोक को आगे बढ़ाने से इंकार किया है और कहा है कि यह मुद्दा बातचीत से जुड़ा नहीं है.

न्यूयॉर्क में बीबीसी संवाददाता ब्रिजेट केंडल का कहना है कि महमूद अब्बास के तेवर कड़े हैं और वो बस यही कहने से बचे कि अगर इसराइल ने बस्तियां बनाने पर रोक हटाई तो शांति वार्ता ख़त्म हो जाएगी.

ब्रिजेट का कहना है कि शांति वार्ताओं को आगे बढ़ाने के लिए पर्दे के पीछे काफ़ी काम चल रहा है.

अब्बास का कहना था कि फ़लस्तीनी लोग इसराइल के साथ शांति के लिए अगले एक वर्ष में पूरा प्रयास करेंगे.

उन्होंने यह भी कहा कि फ़लस्तीनी जनता शांति वार्ताओं को जारी रखने के अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रयासों के साथ सहयोग भी करेगी.

अब्बास ने इसराइल के ख़िलाफ़ फ़लस्तीनी शिकायतों की सूची भी लोगों के सामने रखी. उन्होंने गज़ा की आर्थिक नाकेबंदी और हज़ारों फलस्तीनियों को जेल में बंद रखे जाने पर आपत्ति जताई.

उन्होंने कहा कि फ़लस्तीनी गंभीर ख़तरों का सामना कर रहे हैं जो उन्हें हिंसा और संघर्ष के रास्ते पर धकेल रहा है.

उनका कहना था, ‘‘ इसराइल की मानसिकता दूसरों को दबाने और अपना क्षेत्र बढ़ाने की है. यही मानसिकता इसराइली नीतियों में दिखती है.’’

अब्बास का कहना था कि फ़लस्तीनी हाथ घायल हैं लेकिन वो फिर भी दोस्ती के लिए तैयार है.

संबंधित समाचार