यूरोपीय देशों की यात्रा पर चेतावनी

Image caption ख़ुफ़िया सूत्रों का कहना है कि अल-क़ायदा फ़्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन में हमले की योजना बना रहा है

अमरीकी सरकार ने अपने नागरिकों को सलाह दी है कि वो यूरोप की यात्रा करते हुए सावधानी बरतें.

अमरीका के विदेश विभाग ने अल-क़ायदा के कमांडो शैली के हमलों के ख़तरे को देखते हुए ये सरकारी सलाह जारी की है.

विदेश विभाग ने किसी देश विशेष का नाम नहीं लिया है लेकिन इसे समूचे यूरोप पर लागू किया है.

सुरक्षा सूत्रों ने चेतावनी दी है कि अल-क़ायदा भीड़ भाड़ वाले पर्यटन स्थलों पर आम नागरिकों को निशाना बनाने के लिए बंदूकधारी दलों को भेजने की योजना बना रहा है.

अमरीकी सरकार का कहना है कि ये हमले ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी में मुम्बई हमलों की शैली के हमले हो सकते हैं.

विदेश विभाग की इस चेतावनी में कहा गया है कि यूरोपीय सरकारों ने किसी तरह के आतंकवादी हमले को रोकने के लिए उपयुक्त क़दम उठाए हैं लेकिन आतंकवादी कई तरीक़े और हथियार इस्तेमाल कर सकते हैं और सरकारी और निजी हितों पर हमले कर सकते हैं.

अमरीकी चेतावनी में कहा गया है कि अमरीकी नागरिकों को याद दिलाया जाता है कि सार्वजनिक यातायात प्रणाली और पर्यटन स्थलों को निशाना बनाया जा सकता है.

पर्यटन पर असर

इस तरह की चेतावनियों से यूरोपीय पर्यटन पर नकारात्मक असर पड़ेगा.

लेकिन अमरीकी नागरिकों को यूरोपीय देशों की यात्रा करने से रोका नहीं गया है.

अमरीकी चेतावनी के बाद ब्रिटेन ने भी अपने नागरिकों को सलाह जारी की है कि फ़्रांस और जर्मनी में आतंकवादी हमले का गंभीर ख़तरा है.

ब्रिटेन की गृहमंत्री टेरेसा मे ने कहा कि ब्रिटेन अपने मित्र देशों के साथ मिलकर चरमपंथियों से लड़ता रहेगा.

टेरेसा मे ने कहा,"मैं आम जनता से आग्रह करती हूं कि किसी तरह की संदेहास्पद गतिविधि की पुलिस में रिपोर्ट करें जिससे हमारी सुरक्षा सेवाएं आतंकवादी गतिविधि का पता लगा कर उसे विफल कर सकें".

यूरोपीय अधिकारियों ने गिरफ़्तारियां नहीं की हैं लेकिन बहुत से लोगों पर नज़र रखी जा रही है.

संदेह के घेरे में पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश नागरिक और अफ़ग़ान मूल के जर्मन नागरिक शामिल हैं.

इन हमलों की योजना शायद हाल में पाकिस्तान में अल-क़ायदा चरमपंथियों पर हुए अमरीकी ड्रोन हमलों के जवाब में की गई है.

संबंधित समाचार