कर्नाटक में जारी विधायकों की लुकाछिपी

येदुरप्पा
Image caption दक्षिण भारत में पहली बार सत्ता में आई येदुरप्पा सरकार 11 अक्टूबर को सदन में बहुमत साबित करेगी.

कर्नाटक की भाजपा सरकार के बाग़ी विधायक गोवा से निकलकर अब चेन्नई पहुंच गए हैं.

10 भाजपा विधायकों के बाग़ी होने और छह निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के चलते कर्नाटक की भाजपा सरकार अल्पमत में आ गई है.

गुरुवार को पांच निर्दलीय और भाजपा के छह विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस लेने के अपने फ़ैसले के बारे में कर्नाटक के राज्यपाल को सूचित किया था.

इस मामले पर सुनवाई के लिए कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष के जी बोपैया ने इन विधायकों को नोटिस जारी किया.

बहुमत का आंकड़ा

कर्नाटक विधानसभा में सीटों की कुल संख्या 224 है. इसमें भाजपा के पास 117 सीटें, कांग्रेस के पास 77, जेडीएस के पास 28 और निर्दलियों के पास छह सीटें हैं. सरकार बनाने के लिए भाजपा को 113 सीटें चाहिए.

सोमवार को होने वाले विश्वासमत के लिए कर्नाटक में राजनीतिक सरगर्मियां तेज़ हो गई हैं.

बैंगलोर में स्थानीय पत्रकार भास्कर हेगड़े का कहना है कि भाजपा ने एक टेप जारी कर ये दावा किया कि विपक्षी दल जनता दल सेक्यूलर(जेडीएस) उसके बाग़ी विधायकों को बरगलाने और रिश्वत देने की कोशिश कर रहा है.

भास्कर हेगड़े ने बताया कि भाजपा द्वारा जारी टेप के मुताबिक जेडीएस के नेता एचडी कुमारस्वामी ने एक भाजपा विधायक से कहा है कि वो विश्वासमत के दिन विधानसभा से बाहर रहें और इसके बदले में सरकार बनने के बाद उन्हें मंत्रीपद दे दिया जाएगा.

जेडीएस ने फ़िलहाल भाजपा के इस दावे का खंडन नहीं किया है.

दौड़भाग

भास्कर हेगड़े का कहना है कि भाजपा इस कोशिश में जुटी है कि 20 बाग़ी विधायकों में से ज़्यादा से ज़्यादा पार्टी में लौट आएं.

उनका कहना है कि कर्नाटक की मौजूदा स्थिति में अगर येदुरप्पा सरकार बहुमत साबित करने में नाकाम रहती है तो जेडीएस और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाने का दावा कर सकते हैं.

इस बीच तीनों पार्टियों ने अपने विधायकों को इकट्ठा कर पांच सितारा होटलों और महंगे रिसॉर्ट में ठहरा दिया है. पार्टियों की कोशिश है कि किसी भी तरह उनके विधायक सरकार बनाने की जोड़-तोड़ में दूसरे दल के नेतृत्व से दूर रहें.

कर्नाटक सरकार से समर्थन वापस लिए विधायक इससे पहले गोवा के एक नामी होटल में ठहरे हुए थे और गोवा पुलिस उनकी निगरानी कर रही थी.

जोड़-तोड़

गोवा में मौजूद भाजपा नेताओं का आरोप था कि बाग़ी नेताओं को उनसे दूर रखने के लिए गोवा की कांग्रेस सरकार अपने सरकारी तंत्र का इस्तेमाल कर रही है.

कर्नाटक में सरकार में शामिल कम से कम 19 विधायकों ने बुधवार को अपना समर्थन वापस लेने की घोषणा कर दी थी जिससे येदुरप्पा सरकार अल्पमत में आ गई.

मंत्रिमंडल में बग़ावत की आशंका के बीच येदुरप्पा ने चार विधायकों को निष्कासित भी कर दिया था.

पद से बर्ख़ास्त किए गए चारों विधायक निर्दलीय उम्मीदवार हैं जिन्होंने 2008 में हुए चुनावों में भाजपा को बहुमत न मिलने पर सरकार को समर्थन दिया था.

दक्षिण भारत में पहली बार सत्ता में आई येदुरप्पा सरकार से कहा गया है कि वो 11 अक्टूबर को सदन में बहुमत साबित करे.

संबंधित समाचार