अमरीकी सुरक्षा सलाहकार का इस्तीफ़ा

Image caption जनरल जोन्स राष्ट्रपति ओबामा के क़रीबी माने जाते हैं

अमरीका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेम्स जोन्स अपना पद छोड़ रहे हैं.

उनका स्थान उप सुरक्षा सलाहकार टॉम डोनिलॉन लेंगे.

बराक ओबामा ने पत्रकार सम्मेलन में कहा,''मैंने जब जनरल जोन्स को चुनावों के बाद ये काम संभालने के लिए कहा तो उनके लिए ये बेहद मुश्किल फ़ैसला था क्योंकि वो तब सेना से रिटायर हुए ही थे और उन पर परिवार की ज़िम्मेदारियां थीं. लेकिन उनकी देशभक्ति और काम के प्रति लगन ने को देखते हुए हमें पता था कि वो ये काम ज़रूर कर पाएंगे.''

जेम्स जोन्स पिछले कुछ हफ़्तों में इस्तीफ़ा देने वाले ओबामा प्रशासन के पाँचवें बड़े अधिकारी हैं.

इसके पहले प्रमुख आर्थिक सलाहकार लैरी सुमर्स ने इस्तीफ़ा दे दिया था.

जेम्स जोन्स सेना की मैरीन कोर्प्स में जुड़े रहे हैं और वो राजनीतिकों से थोड़े हट कर थे.

हाल में प्रकाशित एक किताब में उन्होंने राजनीतिज्ञों के लिए 'माफिया' जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया था.

माना जाता है कि इसने उनकी विदाई को तेज़ कर दिया.

हालांकि ये बात कुछ समय से कही जा रही थी कि वो अपना पद छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं.

जनरल जोन्स राष्ट्रपति ओबामा के क़रीबी माने जाते हैं जबकि डोनिलॉन डेमोक्रेटिक पार्टी के पुराने नेता हैं और वे बिल क्लिंटन के विदेश मंत्री वारेन क्रिस्टोफर के चीफ ऑफ़ स्टॉफ रहे हैं.

जानकारों का कहना है कि वो ओबामा के अंदरूनी खेमे के नहीं हैं.

वॉशिंगटन पोस्ट ने हाल में जाने माने पत्रकार बॉब वुडवर्ड की एक किताब के अंश प्रकाशित किए हैं जिसमें रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स को ये कहते उद्धृत किया गया है कि यदि डोनिलॉन को रक्षा सलाहकार बनाया जाता है तो ये 'दुर्भाग्यपूर्ण' होगा.

हालांकि पत्रकारों से बातचीत में रॉबर्ट गेट्स इससे मुकर गए.

रॉबर्ट गेट्स ने कहा कि उनके टॉम डोनिलॉन के साथ हमेशा बेहद अच्छे संबंध रहे हैं. उन्होंने कहा कि जो लिखा गया है वो ग़लत है और वो चाहेंगे कि टॉम के साथ उन्हें आगे भी काम करने का मौक़ा मिले.

जानकारों का कहना है कि राष्ट्रपति ओबामा ने अपने कार्यकाल का लगभग आधा सफ़र तय कर लिया है और इस समय वरिष्ठ अधिकारियों का आना-जाना कोई चौंकाने वाली बात नहीं है.

संबंधित समाचार