शांतिवार्ता के लिए एक महीना

  • 9 अक्तूबर 2010
अरब लीग की बैठक
Image caption अरब लीग ने महमूद अब्बास के फ़ैसले का समर्थन किया है

अरब लीग ने इसराइल के साथ शांतिवार्ता स्थगित करने के फ़लस्तीनियों के निर्णय का समर्थन किया है.

फ़लस्तीनियों ने इसराइल के साथ तब तक शांतिवार्ता न करने का फ़ैसला किया है जब तक वह अपने कब्ज़े वाली ज़मीन पर नई बसाहट रोकने के फ़ैसले को फिर से लागू नहीं करता है.

हालांकि अरब लीग के विदेश मंत्रियों ने लीबिया में हुई बैठक के बाद कहा है कि अमरीका के पास अभी भी समय है कि वह इस शांतिवार्ता को बचाने के लिए इसराइल पर दबाव डाले.

उन्होंने अमरीका को एक महीने का समय देते हुए कहा कि वे इसके बाद स्थिति की समीक्षा करेंगे.

इस बैठक में फ़लस्तीनी प्रशासन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास शामिल थे.

गतिरोध

बैठक की अध्यक्षता कर रहे क़तर के विदेश मंत्री शेख़ हमद बिन जासिम ने कहा, "समिति ने शांतिवार्ता स्थगित करने के महमूद अब्बास के फ़ैसले का समर्थन किया है."

उन्होंने कहा, "समिति अमरीका से अनुरोध करती है कि वह शांतिवार्ता बहाल करने के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ बनाने की दिशा में काम करे और शांतिवार्ता को फिर से पटरी पर लाए."

यह गतिरोध शांतिवार्ता शुरु होने के सिर्फ़ पाँच हफ़्ते बाद आया है. यह शांतिवार्ता अमरीका के पहल पर शुरु हुई थी.

संवाददाताओं का कहना है कि शांतिवार्ता पर नई बसाहटों का मुद्दा ही हावी रहा है और अब तक जितनी बातचीत हुई है उसमें कुछ ख़ास प्रगति नहीं हुई है.

लगभग दो साल बाद दोनों पक्षों के बीच बातचीत का सिलसिला फिर से शुरु हुआ है.

इसराइल ने नए बसाहटों पर जो रोक लगाई थी उसकी मियाद पिछले हफ़्ते ख़त्म हो गई थी लेकिन इसराइल ने इस समय सीमा में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की है.

इसराइली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने दस महीने से लगी इस रोक का आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया था.

उधर अमरीका सहित कई अन्य देशों ने इसराइल से अपील की है कि वह इस प्रतिबंध को आगे बढ़ा दे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार