बीबीसी उपमहानिदेशक अलविदा कहेंगे

  • 12 अक्तूबर 2010
मार्क बायफ़र्ड
Image caption मार्क बायफ़र्ड बीस साल की उम्र से बीबीसी में काम कर रहे हैं

बीबीसी के उप महानिदेशक मार्क बायफ़र्ड मार्च 2011 में बीबीसी छोड़ रहे हैं.

मार्क की सालाना तनख़्वाह 475,000 पाउंड है और इस हिसाब से उन्हें उस समय जो पैकेज दिया जाएगा वह आठ से नौ लाख पाउंड के बीच होगा.

वर्ष 2007 में बीबीसी ने छह चरणों की एक योजना का ऐलान किया था जिसके तहत 1800 नौकरियाँ बंद की जाएँगी. यह आरोप लगने के बाद कि बीबीसी के शीर्ष अधिकारी भारी भरकम वेतन लेते हैं, यह भी कहा गया था कि एक चौथाई वरिष्ठ प्रबंधकों की छंटनी कर दी जाएगी.

बावन वर्षीय मार्क बायफ़र्ड कार्यकारी बोर्ड के उन दस सदस्यों में से हैं जिनके बोनस पर पिछले वर्ष जुलाई में अनिश्चितकाल के लिए रोक लगा दी गई थी.

फ़ाइनेंशियल टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक बोर्ड के अन्य सदस्यों की नौकरियाँ भी ख़तरे में हैं और उनमें महानिदेशक मार्क थॉम्पसन सहित कई उच्चाधिकारी शामिल हैं.

पहले पर अंतिम नहीं...

Image caption बीबीसी के महानिदेशक मार्क थॉम्पसन ने मार्क बायफ़र्ड के जाने का ऐलान किया

बीबीसी के मीडिया संवाददाता टोरिन डगलस का कहना है कि लगता है मार्क बायफ़र्ड बीबीसी से हटने वालों में पहले हैं, लेकिन अंतिम नहीं.

मार्क बायफ़र्ड ने 32 साल बीबीसी में गुज़ारे. वह 20 वर्ष की उम्र में टेलीविज़न न्यूज़रूम में एक अस्थाई सहायक के तौर पर काम करने आए.

अलग-अलग पदों पर काम करने के बाद जनवरी, 2004 में वह उप महानिदेशक बने लेकिन तीन हफ़्ते बाद ही कार्यकारी महानिदेशक ग्रेग डाइक के इस्तीफ़ा दे देने के बाद उनकी पदोन्नति हो गई.

वह बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के महानिदेशक भी रहे. इस समय वह बीबीसी की पत्रकारिता और संपादकीय नीति के प्रभारी थे और साथ ही लंदन 2012 ओलंपिक कवरेज की योजनाओं की देखरेख कर रहे थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार