गुब्बारे या घातक हथियार !

  • 12 अक्तूबर 2010
छद्म हथियार
Image caption दुश्मन के रडार पर ये असली हथियारों की तरह ही दिखते हैं.

रुसी सेना ने दुश्मनों के हौसले पस्त करने और अत्याधुनिक हथियारों पर खर्च बचाने का एक नायाब तरीका निकाला है.

सेना ने घातक हथियारों की तर्ज पर ऐसे गुब्बारे बनाए हैं जो प्लास्टिक और फाइबर के बने हैं और जिनमें हवा भरकर उन्हें असली हथियारों की शक्ल दी जा सकती है.

इन हथियारों की ख़ासियत है कि दुश्मन के रडार पर ये असली हथियारों की तरह ही दिखते हैं.

इन्हें एक जगह से दूसरी जगह ले जाना आसान है और ये मिनटों में तय जगहों पर तैनात किए जा सकते है.

ये छद्म हथियार असली हथियारों से कई सौ गुना सस्ते हैं क्योंकि सेना के ये हथियार बारूद से नहीं हवा से चलते हैं.

हथियारों में हवा भरते ही वो फूलते जाते हैं और अपना आकार ले लेते हैं.

असली या नकली

ऐसे ही एक हथियार का प्रदर्शन करते हुए सेना के एक प्रतिनिधी ने प्लास्टिक के थैले की तरह दिखने वाले हथियार में हवा भरी और वह एस-300 रॉकेट लाँचर में तब्दील हो गया. इस रॉकेट की एक लंबी नली थी और दागे जाने को तैयार दिखते रॉकेट.

सभी तरह के घातक हथियारों के लिए इस तरह के छद्म गुब्बारे तैयार किए गए हैं.

इन्हें बनाने वाली कंपनी से जुड़ी लेना कहती हैं, ''रुस की सेना के लिए इस तरह के रॉकेट लॉचर और बड़े से बड़ा टैंक बनाने में मुझे बेहद खुशी महसूस हो रही है.

जब अब इन्हें बनाकर इनमें हवा भरते देखती हूं तो बहुत संतोष होता है.''

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार