सैन्य दस्तावेज़ जारी करना शर्मनाक: अमरीका

  • 23 अक्तूबर 2010
इराक़ में क़ैदियों की प्रताड़ना
Image caption अमरीका ने विकीलीक्स की कड़ी आलोचना की है.

अमरीका ने विकीलीक्स नाम की उस वेबसाइट की कड़ी आलोचना की है जिसने इराक़ से संबंधित क़रीब चार लाख दस्तावेज़ इंटरनेट पर प्रकाशित किए हैं. अमरीकी रक्षा मंत्रालय ने विकीलीक्स के इस क़दम को 'शर्मनाक' बताया है.

अमरीकी रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने इन दस्तावेज़ों को सेना की 'टेक्टिकल यूनिट्स' का महज शुरुआती आकलन बताया है. दस्तावेज़ों में इराक़ में ज़्यादतियों के विस्तृत ज़िक्र के बारे में प्रवक्ता ने कहा कि एक 'नीति के तहत ऐसी घटनाओं पर नज़र रखी जाती है ताकि ऐसे व्यवहार पर कार्रवाई की जा सके'.

विकीलीक्स ने इराक़ में अमरीका और ईरान की गतिविधियों के कई राज़ शुक्रवार को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किए हैं. करीब चार लाख दस्तावेज़ों में इराक़ में अमरीकी कमांडरों के इराक़ी क़ैदियों के प्रति रवैये के अलावा इराक़ में ईरानी हस्तक्षेप के भी संकेत मिले हैं.

'शर्म की बात'

रक्षा विभाग के प्रवक्ता ज्यॉफ़ मोरेल ने विकीलीक्स पर ये कहते हुए हमला भी किया कि अब अमरीका के दुश्मनों के पास ऐसे 'असाधारण दस्तावेज़' पहुंच गए हैं जिनसे वे अमरीकी रणनीति, युद्ध तकनीक और सैन्य प्रक्रियों के बारे में जान पाएंगे.

वेबसाइट पर छपी अमरीकी सेना की 'टेक्टिकल रिपोर्टों' के बारे में ज्यॉफ़ मोरेल ने कहा, "इन दस्तावेज़ों में सैनिकों की गश्त के दौरान बम धमाकों, छोटे हथियारों और इसके अलावा किसी भी किस्म की गतिविधियों पर नज़र रखने की विस्तृत जानकारी हो सकती है. हमारे दुश्मन इन चार लाख दस्तावेज़ों को और जुलाई में अफ़गानिस्तान पर प्रकाशित हुए 70 हज़ार दस्तावेज़ों के ज़रिए हमारी रणनीति को जान सकते हैं. इसी वजह से हमने ये जानकारी गुप्त रखी थी. ये शर्म की बात है कि इसे विकीलीक्स ने इसे रिलीज़ कर दिया है. ये और शर्म की बात है कि अब इसे सारी दुनिया उनकी वेबसाइट पर देख सकेगी."

इससे पहले अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने भी विकीलीक्स के इस क़दम की आलोचना की थी.

हिलेरी क्लिंटन ने कहा, "नीति के तहत इस मामले पर विदेश मंत्रालय कुछ नहीं कह सकता. लेकिन मेरी इस बारे में मज़बूत राय है कि हमें ऐसे क़दमों की आलोचना करनी चाहिए. गुप्त दस्तावेजों के सार्वजनिक होने से अमरीका और उसके सहयोगियों के सैनिकों और अन्य नागरिकों के जान ख़तरे में पड़ जाती है. साथ ही इससे हमारी और हमारे सहयोगियों की राष्ट्रीय सुरक्षा को भी आघात पहुंचता है. "

'नो फ़र्दर इनवेस्टीगेशन'

विकीलीक्स ने जिन दस्तावेज़ों को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया है उनके ये संकेत मिलते हैं कि अमरीकी सेना के वरिष्ठ कमांडरों को इस बात की जानकारी थी कि इराक़ी सेना क़ैदियों के साथ बुरा व्यवहार कर रही है. लेकिन जानते हुए भी ये कमांडर क़ैदियों की प्रताड़ना रोकने में असफल रहे.

बीबीसी ने जो कुछ दस्तावेज़ देखे हैं उनमें इराक़ी क़ैदियों को बिजली का करंट लगाने और हत्या करने के विवरण हैं.

ये दस्तावेज़ अमरीकी सेना की उच्च कमान तक भेजे तो गए लेकिन इन दस्तावेंजों में एक अहम टिप्पणी जोड़कर आगे भेजा गया. इस टिप्पणी में लिखा गया - 'नो फ़र्दर इनवेस्टीगेशन' यानि 'आगे जांच नहीं'

संबंधित समाचार