'मुंबई स्टाइल' हमले से निपटने के लिए प्रशिक्षण

मेट्रोपोलिटन पुलिस
Image caption ब्रिटेन में पुलिस के प्रशिक्षण के स्तर को बढ़ाने के आदेश

सार्वजनिक स्थानों पर 'मुंबई स्टाइल' हमले से निपटने के लिए ब्रिटेन के सुरक्षा प्रमुखों ने पुलिस के प्रशिक्षण के स्तर को बढ़ाने के आदेश दिए हैं.

इसके तहत ब्रिटेन में सुरक्षा बलों को कई किस्म का आतंकवाद निरोधक प्रशिक्षण और उच्च स्तर के हथियार दिए जा रहे है.

हाल में मिली शुरुआती ख़ुफ़िया जानकारी से पता चला था कि अल-क़ायदा ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी में समन्वित हमले करने की योजना बना रहा है.

पता चला है कि इस षडयंत्र में 2008 में मुंबई पर किए गए उस हमले की नकल करने की योजना थी. मुंबई में 10 बंदूकधारियों के हमले में 166 लोग मारे गए और 300 से ज़्यादा लोग घायल हुए थे.

बीबीसी के सुरक्षा मामलों के संवाददाता फ़्रैंक गार्डनर ने कहा है कि मुंबई हमलों के बाद से ही ब्रिटेन के अधिकारी इस तरह के हमलों से निपटने की तैयारी करने की योजना बना रहे थे.

फ़्रैंक गार्डनर के मुताबिक इस साल मई में सत्ता संभालने के बाद जब प्रधानमंत्री के सामने वो दस्तावेज़ रखा गया जिसमें देश को ख़तरे का पहला आकलन था तब डेविड कैमरन ने इसमें निजी दिलचस्पी दिखाई थी.

गार्डनर कहते हैं कि अब पुलिस की सशस्त्र इकाई अपने हथियार और गोला बारूद के भंडार को बढ़ा रही है जिससे कि उन आतंकवादियों से निपटा जा सके जो स्वचालित हथियारों से एक साथ मिलकर हमले करते हैं.

एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि मेट्रोपोलिटन पुलिस को इस तरह की तैयारी करने के लिए पहले कभी नहीं कहा गया था.

ख़तरे का स्तर

Image caption 2008 में मुंबई पर हुए हमले में 166 लोग मारे गए थे और 300 से ज़्यादा घायल हुए थे.

पूर्व सुरक्षा मंत्री लॉर्ड वेस्ट ने बीबीसी को बताया कि इस तरह के आतंकवादी हमलों से निपटने के लिए पुलिस को ठीक से प्रशिक्षित रहना ज़रूरी है.

लार्ड वेस्ट ने कहा, " जैसे आतंकवादियों ने मुंबई पर हमला किया था वे सैनिकों की तरह होते हैं. ये लोग गोलियाँ चलाते हुए आगे बढ़ते हैं. उनके पास हमारी पुलिस की तुलना में बेहतर हथियार होते हैं और उनका उद्देश्य ज़्यादा से ज़्यादा संख्या में लोगों को मारना होता है. इसलिए पुलिस को भी ऐसे हथियार और प्रशिक्षण देना ज़रूरी होता है."

इस बीच 2012 में लंदन में होनेवाले ओलंपिक खेलों के दौरान स्पेशल ऐयर सर्विस (एसएएस) को लंदन में अस्थाई तौर पर तैनात करने की योजना पर विचार हो रहा है.

पिछले महीने पता चला था कि जिहादी कट्टरपंथी यूरोप में मुंबई की तर्ज़ पर हमले करने की योजना बना रहे हैं.

पश्चिमी देशों के ख़ुफ़िया सूत्रों के मुताबिक चरमपंथियों के छोटे छोटे दल लोगों को बंधक बनाकर उन्हें मार डालने की योजना बना रहे थे.

ब्रिटेन के अधिकारियों ने बताया कि ये योजनाएँ बननी बंद नहीं हुईं हैं लेकिन ऐसा भी नहीं है कि इन योजनाओं के तहत हमले तुरंत हो ही जाएँगे.

जनवरी की तरह अभी भी ब्रिटेन में सुरक्षा के ख़तरे का स्तर अपने चरम पर बना हुआ है. इसका मतलब है कि ब्रिटेन में अब भी आतंकवादी हमले की आशंका प्रबल है.

संबंधित समाचार