'यात्रियों की न हो ग़ैर ज़रुरी जाँच'

  • 27 अक्तूबर 2010
Image caption ब्रिटिश एयरवेज़ के प्रमुख ने बहुत अधिक जाँच पड़ताल को आपत्ति जताई है

ब्रिटिश एयरवेज़ के प्रमुख ने कहा है कि हवाई यात्रियों की ग़ैर ज़रुरी जाँच नहीं होनी चाहिए और ब्रिटेन को अमरीका की सुरक्षा माँग के सामने घुटने नहीं टेकने चहिए.

ब्रिटिश एयरवेज़ के प्रमुख मार्टिन ब्राउगटन ने कहा है कि यात्रियों की जूते उतार कर होने वाली जाँच को बंद कर देना चाहिए.

उन्होंने ये भी सवाल उठाया कि क्यों लैपटॉप की अलग से जाँच की जाती है.

हालांकि ब्रिटेन के परिवहन विभाग के अनुसार फ़िलहाल जूतों और लैपटॉप की जाँच संबधी नियम में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

मार्टिन ब्राउगटन ने अमरीका की आलोचना करते हुए कहा कि अमरीका जाने वाली उड़ानों के यात्रियों की ज्यादा जाँच की जाती है जबकि अमरीका की घरेलू उड़ानों में इतनी अधिक जाँच नहीं होती.

जनवरी में संभावित हमलों की आशंका के बाद अमरीका ने सुरक्षा जाँच कड़ी कर दी थी.

खतरे के आंकलन के बाद अमरीका में चौदह देशों से आने वाले हवाई यात्रियों की कड़ी जाँच की जा रही है जिसमें जामा तलाशी के अलावा केबिन में साथ ले जाने वाले सामान की जाँच शामिल है.

इसके अलावा विदेश से आने वाले यात्रियों का औचक निरीक्षण भी किया जा सकता है.

मार्टिन ब्राउगटन ब्रिटेन की एयरपोर्ट एसोसिएशन की सालाना बैठक में बोलते हुए कहा, "कमज़ोर सुरक्षा कोई नहीं चाहता"

मार्टिन ब्राउगटन ब्रिटिश एयरवेज़ के अध्यक्ष के अलावा प्रीमियर लीग के क्लब लिवरपूल के भी अध्यक्ष है.

मार्टिन ब्राउगटन ने कहा, "अमरीका घरेलू स्तर पर जो क़दम नहीं उठाता, वो हमसे ये उम्मीद करता है कि हम वो क़दम उठाएं."

मार्टिन ब्राउगटन ने तो यहाँ तक कहा,'' हमें सिर्फ़ वही क़दम उठाने चाहिए जो हमारे अनुसार ज़रुरी हैं, न कि वो जिन्हें अमरीका ज़रुरी समझता है."

9/11 हमलों और दिसंबर, 2001 में लदंन हवाई अड्डे पर जूते में छुपाकर लाए गए विस्फोटक से हमले की कोशिश के बाद विश्व भर में हवाई सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

संबंधित समाचार