परमाणु मुद्दे पर ईरान को नई पेशकश

बुशहर का परमाणु संयंत्र
Image caption परमाणु ईंधन को संवर्धन के लिए ईरान से बाहर लाने के लिए दूसरा प्रस्ताव लाने की तैयारी चल रही है.

अमरीका और उसके यूरोपीय सहयोगी ईरान की परमाणु महत्वकांक्षाओं पर नियंत्रण रखने के लिए एक नया प्रस्ताव लाने पर काम कर रहे हैं.

पश्चिमी देश ईरान से यूरेनियम को संवर्धन के लिए बाहर ले जाने का प्रयास कर रहे हैं. ऐसी एक कोशिश पहले भी की जा चुकी है.

अमरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा है कि यूरेनियम की अदला-बदली के नए प्रस्ताव में कठोर शर्तें शामिल होंगीं.

इससे पहले दिए गए प्रस्ताव को ईरान ने नामंज़ूर कर दिया था. उस प्रस्ताव में ईरान से 1200 किलोग्राम यूरेनियम को संवर्धन के लिए ईरान से बाहर भेजने को कहा गया था.

इसीबीच यूरोपीय संघ की प्रतिनिधि कैथरीन एशटन ने अगले महीने जिनेवा में ईरानी अधिकारियों से मिलने की पेशकश की है लेकिन ईरान ने फ़िलहाल इसपर कुछ नहीं कहा है.

गत वर्ष 1200 किलोग्राम यूरेनियम को संवर्धन के लिए बाहर ले जाने के प्रस्ताव का मक़सद ईरान और पश्चिमी देशों के बीच भरोसा क़ायम रखना था.

वॉशिंगटन में बीबीसी संवाददाता किम घट्टास के मुताबिक अगर ईरान 1200 किलोग्राम यूरेनियम बाहर भेज देता तो पश्चिमी देशों को यक़ीन हो जाता कि वो परमाणु हथियार बनाने की योजना नहीं बना रहा. साथ ही ईरान को चिकित्सा के ज़रुरतों के लिए संवर्धित परमाणु ईंधन भी मिल जाती.

यूरेनियम को ईरान से बाहर निकालने के प्रस्ताव के सामानंतर देश के परमाणु कार्यक्रम पर बातचीत जारी रहेगी.

नए प्रस्तावों में पिछले एक साल में ईरान के बढ़े यूरेनियम भंडार को नज़र में रखा जाएगा.

हांलाकि अमरिकी अधिकारियों ने इस बात की रोशनी नहीं डाली है लेकिन ऐसी ख़बरें मिल रहीं हैं कि अब यूरेनियम की मात्रा बढ़ाकर 2000 किलोग्राम की जा सकती है.

ईरान की नए प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया से इस बात का भी संकेत मिलेगा कि गत वर्ष लगाए गए संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों का उस देश पर कितना असर पड़ रहा है.

संबंधित समाचार