बग़दाद में ईसाईयों पर हमला

  • 10 नवंबर 2010
Image caption कैथोलिक चर्च पर हुए हमले में 50 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

इराक़ की राजधानी बग़दाद के ईसाई बहुल क्षेत्रों में कई बम और मोर्टार हमले हुए हैं जिसमें कम से कम तीन लोग मारे गए हैं और 20 से ज़्यादा घायल हुए हैं.

पुलिस का कहना है कि अबतक 12 बम हमले हुए हैं और एक अन्य इलाक़ा जहां केवल ईसाई रहते हैं वहां मोर्टार हमला हुआ है.

दस दिन पहले ही हथियारबंद चरमपंथी बग़दाद के एक कैथोलिक चर्च में प्रवेश कर गए और 50 से ज़्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया.

एक इस्लामी चरमपंथी गुट ने चेतावनी दी है कि वो इराक़ के सभी ईसाईयों को निशाना बनाना बिल्कुल सही मानते हैं.

बगद़ाद से बीबीसी संवाददाता जिम मुईर का कहना है कि बुधवार की सुबह छह ईसाई इलाके बमों की आवाज़ से दहल उठे.

ज़्यादातर धमाके सड़क के किनारे रखे बमों से हुए लेकिन दक्षिण बग़दाद में दो मोर्टार बम भी दागे गए.

अभी तक ये नहीं स्पष्ट हो पाया है कि मारे गए लोगों में ईसाई कितने हैं.

एक दिन पहले ही देश के प्रधानमंत्री नूरी अल मलिकी ने उस चर्च का दौरा किया था जहां 50 से ज़्यादा ईसाई मारे गए थे.

उन्होंने ईसाईयों से अपील की थी कि वो देश छोड़कर नहीं भागें.

जिम मुईर का कहना है कि गिरजाघरों के इर्द-गिर्द सुरक्षा काफ़ी कड़ी कर दी गई है लेकिन ईसाई समुदाय पूरे शहर में फैला हुआ है और उन सबको सुरक्षा दे पाना एक असंभव सा कार्य होगा.

संबंधित समाचार