सैन्य अभ्यास: उत्तर कोरिया का आरोप

  • 26 नवंबर 2010
उत्तर कोरिया की गोलाबारी के बाद टापू का दृश्य

दक्षिण कोरिया और अमरीका के संयुक्त सैन्य अभ्यास पर नाराज़गी जताते हुए उत्तर कोरिया ने कहा है कि दोनों देश कोरियाई प्रायद्वीप को युद्ध की ओर धकेल रहे हैं.

दक्षिण कोरिया और अमरीका की नौसेनाएँ इस सप्ताह के अंत में संयु्क्त सैन्य अभ्यास करने वाले हैं.

इससे पहले उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया ने कुछ दिन पहले एक दूसरे पर गोलाबारी की थी.

कई दशकों में यह दोनों देशों के बीच हुई सबसे बड़ी गोलाबारी है. इसमें चार दक्षिण कोरियाई मारे गए थे और कई घर तबाह हो गए थे.

इस हमले के बाद दक्षिण कोरिया ने अमरीका के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास इस सप्ताह के अंत में करने की घोषणा की थी.

इस बीच दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने इन ख़बरों का खंडन किया है कि उसने नए रक्षा मंत्री की नियुक्ति की है.

इससे पहले ख़बर आई थी कि राष्ट्रपति ली म्युंग बाक के सुरक्षा सलाहकार ली ही-वोन को देश का नया रक्षा मंत्री नियुक्त किया गया है.

चीन की चिंता

इससे पहले चीन भी इस संयुक्त सैन्य अभ्यास पर चिंता ज़ाहिर कर चुका है.

चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने दोनों पक्षों से सब्र से काम लेने को कहा है.

उधर दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने कहा है कि अमरीका उनसे सहमत है इस सैन्य अभ्यास से उत्तर कोरिया को स्पष्ट संदेश दिया जाए.

दक्षिण कोरिया ने अपनी सैन्य रणनीति में बदलाव और जिस टापू पर हमला हुआ था उस पर सैनिकों की संख्या बढ़ाने के बारे में बात की है.

संबंधित समाचार