विकीलीक्स से अमरीका फिर चिंतित

  • 27 नवंबर 2010
Image caption इससे पहले विकीलीक्स ने इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान पर अमरीकी नीतियों से जुड़े चार लाख से ज़्यादा दस्तावेज़ जारी किए थे

बेवसाइट विकीलीक्स पर जारी होने वाले दस्तावेज़ों की नई खेप से अमरीका बेहद चिंतित दिख रहा है.

एक ओर अमरीका के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी एडमिरल माइक म्यूलन ने चेतावनी दी है कि यदि विकीलीक्स अपनी वेबसाइट पर और दस्तावेज़ प्रकाशित करता है तो इससे बहुत से लोगों की जान को ख़तरा हो सकता है.

तो दूसरी ओर अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने चेतावनी दी थी कि दस्तावेज़ों के प्रकाशन से ब्रिटेन, तुर्की, डेनमार्क, इसराइल और नॉर्वे के कूटनीतिक संबंधों पर विपरीत असर पड़ सकता है.

क्या है विकीलीक्स

विकीलीक्स ने पहले भी इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान युद्ध पर कई संवेदनशील जानकारियाँ अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित की थीं और अब वह और दस्तावेज़ प्रकाशित करने की तैयारी कर रहा है.

माना जा रहा है कि इन दस्तावेज़ों में इराक़ युद्ध के बारे में विभिन्न सरकारों और राजनीतिज्ञों के आकलनों का गोपनीय ब्यौरा हो सकता है.

विकीलीक्स ने फिर खोली पोल

विकीलीक्स ने दस्तावेज़ों के प्रकाशन पर आ रही आपत्तियों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अमरीकी प्रशासन अपनी जवाबदेही तय होने से डरा हुआ है.

बदले की कार्रवाई

एडमिरल म्यूलन ने कहा है विकीलीक्स पर दस्तावेज़ प्रकाशित होने से कि अमरीकी सेना में काम कर चुके लोग और उनके साथ काम कर चुके लोगों पर बदले की कार्रवाई करने के लिए हमला किया जा सकता है.

अमरीकी टेलीविज़न सीएनएन से हुई बातचीत में एडमिरल म्यूलन ने कहा, "हम एक ऐसी दुनिया में जी रहे हैं जहाँ नेटवर्क में छोटी-मोटी जानकारियाँ जोड़कर एक ऐसी सोच को जन्म दे सकते हैं जो पहले कहीं थी ही नहीं."

उन्होंने कहा कि इन जानकारियों से अफ़ग़ानिस्तान और दूसरी जगह अमरीकी सेना में और अमरीकी सेना के लिए काम कर रहे लोगों के लिए जान का ख़तरा पैदा कर सकते हैं.

उन्होंने कहा, "मैं उम्मीद करता हूँ कि जो लोग भी इसके लिए ज़िम्मेदार हैं वे लोगों की जान जोख़िम में डालने की जवाबदेही समझेंगे."

मित्र देशों को चेतावनी

इस बीच अमरीका ने ब्रिटेन सहित अपने कई सहयोगी देशों को चेतावनी दी है कि खुफ़िया दस्तावेज़ जारी करने वाली संस्था विकीलीक्स अपने खुलासों के ज़रिए इन देशों के लिए मुश्किलें पैदा कर सकती है.

अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने निजी तौर पर ब्रिटेन, तुर्की, डेनमार्क, इसराइल और नॉर्वे की सरकारों से संपर्क किया है.

हिलेरी क्लिंटन ने इन सरकारों को चेताया है कि ये दस्तावेज़ अमरीका के साथ इन देशों के कूटनीतिक संबंधों के बारे महत्वपूर्ण जानकारियां लिए हो सकते हैं.

जानकारों का मानना है कि इन दस्तावेज़ों में अमरीका के मित्र देशों के प्रति अमरीकी प्रशासन की बेबाक राय और उनका आकलन हो सकता है.

ये आकलन अमरीका और उसके सहयोगियों के लिए असुविधाजनक स्थितियां पैदा कर सकता है.

अमरीका के गृहमंत्रालय के प्रवक्ता पीजे क्रोली ने कहा है कि ये जानकारियाँ, कूटनीतिक सहयोगी के रुप में अमरीका के प्रति विश्वास को कमज़ोर बना सकते हैं.

उन्होंने कहा, ''अमरीका के मित्र देशों का विश्वास जब टूटेगा और टेलिविज़न और अख़बारों की सुर्खियों में छा जाएगा तो ज़ाहिर है इसका प्रभाव होगा.''

विकीलीक्स ने अभी इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है कि ये दस्तावेज़ कब तक जारी किए जाएंगे.

विकीलीक्स की शुरुआत जुलियन असांजे नामक व्यक्ति ने की है. जुलियन ने कुछ समय पहले कहा था कि विकीलीक्स का अगले दस्तावेज़ पिछली बार के दस्तावेज़ों से सात गुना ज़्यादा होंगे.

सुरक्षा हित

Image caption कहा जा रहा है कि इराक़ के बारे में अमरीकी अधिकारियों की कई बेबाक राय सामने आ सकती है

बीबीसी संवाददाता स्टीव किंगस्टन का कहना है कि संभावित दस्तावेज़ों को लेकर अमरीकी सरकार की ये प्रतिक्रिया दिखाती है कि सरकार मान चुकी है कि विकीलीक्स के इन नए दस्तावेज़ों को अब रोका नहीं जा सकता.

अमरीकी अधिकारी सुरक्षा हितों का हवाला देकर विकीलीक्स पर दबाव बनाते रहे हैं लेकिन विकीलीक्स पर उनके इस दबाव का कोई असर नहीं दिखता.

इस बीच ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरून के प्रवक्ता ने कहा है, ''अमरीकी अधिकारियों और राजदूत के ज़रिए हमें इस बारे में जानकारी दी गई है कि इन दस्तावेज़ों में क्या हो सकता है. इन दस्तावेज़ों के जारी होने से पहले हम इस बारे में कुछ नहीं कहना चाहते कि ये किस बारे में हो सकते हैं.''

इन दस्तावेज़ों के स्रोत के बारे फिलहाल कोई जानकारी नहीं है हालांकि माना जा रहा है कि ये जानकारियां अमरीकी गृहमंत्रालय के किसी अधिकारी के ज़रिए विकीलीक्स मिली हैं.

संबंधित समाचार