शर्मिंदा करने वाली टिप्पणियां

Image caption दुनिया के नेताओं पर छपी टिप्पणियों से अमरीका को शर्मिंदा होना पड़ा है

विकीलीक्स वेबसाइट ने अमरीकी कूटनीतिक संदेशों को प्रकाशित करके अमरीका के लिए एक गंभीर कूटनीतिक संकट पैदा कर दिया है.

इससे अमरीका के अन्य देशों से संबंधों पर भी असर पड़ सकता है.

एक अमरीकी सांसद ने विकीलीक्स को एक आतंकवादी संगठन क़रार देने की मांग की है.

लेकिन दुनिया के बहुत से नेताओं के बारे में जिस तरह की टिप्पणियां की गई हैं उससे अमरीकी सरकार बग़लें झांकती नज़र आ रही है.

उदाहरण के लिए मॉस्को स्थित अमरीकी राजदूतों ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पूतिन को 'एल्फ़ा' कुत्ते की संज्ञा दी गई है जो राष्ट्रपति दिमित्रि मेदवदेव पर पूरा नियंत्रण रखते हैं.

जबकि मेदवदेव को 'बैटमैननुमां' पूतिन का 'रॉबिन' बताया गया है.

जर्मनी की चांसलर एंगेला मरकेल के बारे में कहा गया है कि 'वो ख़तरों से बचती हैं और उनमें रचनात्मकता की भारी कमी है'.

फ़्रांस के राष्ट्रपति निकोला सारकोज़ी 'पतली खाल वाले सत्तावादी' नेता हैं.

इटली के प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी को 'कमज़ोर और बेअसर' बताया गया है.

जबकि एक कूटनीतिज्ञ ने लीबिया के नेता कर्नल मुअम्मर गद्दाफ़ी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वो हमेशा 'सुडौल और आकर्षक महिलाओं के साथ रहना पसंद करते हैं'.

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई को 'बेहद कमज़ोर और विभ्रम से पीड़ित नेता' बताया गया जिसे हर कोने से षड़यंत्र की बू आती है.

यही नहीं दुनिया के नेताओं की टिप्पणियां भी प्रकाशित की गई हैं.

उदाहरण के लिए सउदी अरब के शाह अब्दुल्लाह की ईरान के बारे में टिप्पणी कि 'इस सांप का सिर काटने की ज़रूरत है'.

शाह अब्दुल्लाह ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी के बारे में कहा कि पाकिस्तान की प्रगति में वो सबसे बड़ी रुकावट हैं. 'अगर सिर ही सड़ा हुआ हो तो उसका असर पूरे बदन पर पड़ता है'.

यही नहीं अमरीकी राजनयिकों को संयुक्त राष्ट्र के नेताओं की जासूसी करने के भी निर्देश दिए गए.

रूस की ख़ुफ़िया एजेंसी के बारे में कहा गया है कि उसके संघटित अपराधियों से इतने घनिष्ठ संबंध हैं कि उसे 'माफ़िया राज्य' कहना अनुचित न होगा.

विकीलीक्स के दस्तावेज़ों में चीन पर आरोप लगाया गया है कि उसके नेताओं ने इंटरनेट कंपनी गूगल के ख़िलाफ़ कम्प्यूटर हैकिंग का अभियान चलाया.

संबंधित समाचार