अल-क़ायदा कमज़ोर हुआ:ओबामा

Image caption ओबामा ने माना कि अल-क़ायदा को पूरी तरह समाप्त करने में समय लगेगा(फ़ोटो-एपी)

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अमरीकी अगुआई वाले गठजोड़ बल को अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान में अल-क़ायदा के ख़िलाफ़ सफलता मिल रही है.

अमरीका की अफ़ग़ान नीति की समीक्षा के प्रकाशन के मौक़े पर एक संवाददाता सम्मेलन में ओबामा ने कहा कि अल-क़ायदा को पराजित करने में समय लगेगा, लेकिन उसके ख़िलाफ़ अभियान लगातार जारी रहेगा.

उल्लेखनीय है कि अफ़ग़ान नीति की समीक्षा रिपोर्ट में भी पाकिस्तान में अल-क़ायदा नेतृत्व के कमज़ोर पड़ने और अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान की बढ़त पर रोक लगने की बात की गई है.

बराक ओबामा ने कहा, "हमारा ध्यान अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान में अल-क़ायदा को बाधित करने, उसे तोड़ने और पराजित करने पर है. हमारी कोशिश अल-क़ायदा की अमरीका और सहयोगियों के लिए भविष्य में ख़तरा बनने की क्षमता को समाप्त करने की है."

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा, "आज अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्र में अल-क़ायदा का शीर्ष नेतृत्व नौ वर्षों में सबसे कमज़ोर स्थिति में है जब उन्हें अफ़ग़ानिस्तान से भागना पड़ा था. कई वरिष्ठ अल-क़ायदा नेता मारे जा चुके हैं. उनके लिए भर्ती, यात्रा, प्रशिक्षण के साथ-साथ साज़िशें रचना और हमले करना पहले के मुक़ाबले बहुत कठिन हो गया है. संक्षेप में कहें तो अल-क़ायदा घुटनों पर आ चुका है."

जारी रहेगा अभियान

बराक ओबामा ने कहा, " अल-क़ायदा को पूरी तरह समाप्त करने में समय लगेगा. ये अब भी हमारे देश पर हमले के लिए कटिबद्ध एक निर्दयी और ज़िद्दी शत्रु है. लेकिन इस आतंकवादी संगठन को बाधित करने और उसे ख़त्म करने के लिए हमारा अभियान लगातार जारी रहेगा."

अमरीका अगले साल से अफ़ग़ानिस्तान में अपने सैनिकों की संख्या में कटौती करने जा रहा है. उसकी योजना 2014 से अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सैनिकों की लड़ाकू भूमिका समाप्त करने की भी है.

पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में मिल रही सफलता का ओबामा का दावा ऐसे समय आया है जब वहाँ गठजोड़ बल के हमलों में आम लोगों की मौत का स्तर दस वर्षों में सबसे ज़्यादा है. साथ ही इस साल अफ़ग़ानिस्तान में हताहत विदेशी सैनिकों की भी संख्या 2001 के बाद सर्वाधिक है.

संबंधित समाचार