रक्षा करेगा अंडरवियर

Image caption ये बख़्तरबंद अंडरवियर सैनिकों के बीच ‘कॉमबैट कोडपीस’ के नाम से मशहूर हो गए हैं.

ब्रिटेन ने अफ़ग़ानिस्तान में अपने सैनिकों की सुरक्षा के लिए अत्याधिनुक तकनीक से लैस एक किट तैयार की है. इस किट का आकर्षण है एक ऐसा अंडरवियर जो धमाके के दौरान सैनिकों के नाज़ुक अंगों की सुरक्षा करेगा.

ब्रिटेन ने, अफ़ग़ानिस्तान के हेलमंद प्रांत में भेजे जाने वाले हर सैनिक को धमाकों से सुरक्षित रखने वाले खास तरह के चार जोड़ी अंडरवियर दिए हैं.

देखने में ये भले ही साधारण शॉर्ट्स की तरह लगते हैं लेकिन इनकी बनावट में ही इनकी ख़ासियत छिपी है.

इन्हें सिल्क और कृत्रिम फाइबर के धागों से बने एक ऐसे कपड़े से बनाया गया है जो वज़न में बेहद हल्का है लेकिन धमाके के दौरान निकलने वाली नुकीली और तेज़ धातुओं से पूरी तरह बचाव कर सकता है.

'कॉमबैट कोडपीस'

अफ़ग़ानिस्तान में अक्सर बारुदी सुरंगों और सड़क किनारे होने वाले बम धमाकों में कई सैनिक घायल हो जाते हैं. इन धमाकों में ज़्यादातर सैनिकों के नाज़ुक अंगों को गहरी चोट पहुंचती है.

ये बम ख़ासतौर पर इस तरह तैयार किए जाते हैं कि सैनिकों की जांघ और पैरों के उपरी हिस्से में ज़्यादा से ज़्यादा चोट आए.

ये बख़्तरबंद अंडरवियर सैनिकों के बीच ‘कॉमबैट कोडपीस’ के नाम से मशहूर हो गए हैं.

Image caption सैनिक इस अंडरवियर को अपनी पैंट के ऊपर पहन सकते हैं.

ब्रिटेन की सरकार की ओर से इन खास तरह के अंडरवियर्स की 45,000 जोड़ियां अफ़ग़ानिस्तान पहुंचाई जा चुकी हैं और 15,000 और अंडरवियर पहुंचाए जाएंगे.

सिल्क का इस्तेमाल

सैनिक इन्हें अपनी पैंट के ऊपर पहन सकते हैं. अंडरवियर एक टेप के सहारे नाज़ुक अंगों के आस-पास कवच की तरह फिट हो जाता है.

इस अत्याधुनिक तकनीक को विकसित करने वाले दल के प्रमुख कर्नल पीटर रैफर्टी ने बताया कि इस खोज के दौरान दल को कई चुनौतियों का सामना भी करना पड़ा.

उन्होंने कहा, ''हम लगातार इस खोज और अनुसंधान में जुटे रहते हैं कि हम अपने सैनिकों की रक्षा किस तरह करें. हम कभी नहीं रुकते और इस तरह के बेहतर विकल्प तलाशते रहेंगे.''

विशेषज्ञों का कहना है कि सिल्क का धागा बेहद मज़बूत होता है और धमाकों से बचाव करने की उसकी क्षमता बेहतरीन है.

संबंधित समाचार