नौ महीनों का गतिरोध टूटा, इराक़ में सरकार बनी

नई इराक़ी सरकार

पिछले नौ महीनों के गतिरोध के बाद इराक़ के सांसदों ने नई सरकार को मंजूरी दे दी है.

संसद के विशेष सत्र में सांसदों ने मंत्री पद के लिए प्रधानमंत्री नूरी अल मलिकी के नामांकित उम्मीदवारों को एक एक कर अनुमोदन किया.

इस वर्ष मार्च में हुए चुनावों में किसी भी दल को बहुमत न मिलने के कारण इराक़ में पिछले नौ महीनों से राजनीतिक गतिरोध चल रहा था.

इराक़ में पिछले मार्च में हुए चुनाव के बाद से कोई सरकार नहीं बन पाई थी.

दरअसल विभिन्न दलों की आपसी खींचतान की वजह से सरकार का गठन नहीं हो पा रहा है.

हालांकि अब भी अनेक महत्वपूर्ण पद खाली पड़े हैं, इनमें सुरक्षा मंत्रालय के तीन पद शामिल हैं.

पिछले महीने गतिरोध टूटा था और सत्ता में भागीदारी को लेकर सहमति बनी थी. इसके तहत नूर अल मलिकी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाना तय हुआ था.

ग़ौरतलब है कि चुनावों में पूर्व प्रधानमंत्री इयाद अलावी को थोड़ा फ़ायदा हुआ था. लेकिन किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था.

जबकि निवर्तमान प्रधानमंत्री नूरी अल मलिकी और अलावी दोनों ही भावी सरकार के नेतृत्व का दावा कर रहे थे.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि संसद की पुष्टि के बाद इराक़ में महीनों से ठप्प पड़ी सरकारी मशीनरी फिर से चल पड़ेगी. हालांकि सरकार को पूरा कामकाज संभालने में थोड़ा वक़्त लगेगा.

संवाददाता का कहना है कि शायद ही किसी देश ने संसदीय चुनाव के बाद सरकार बनाने में इतना लंबा समय लिया है.

सरकार का गठन तो हो गया लेकिन जटिलताओं के बीच देखनेवाली बात ये होगी कि ये गठबंधन कितने दिन चल सकेगा.

संबंधित समाचार