हमले की साज़िश के लिए तीन को सज़ा

  • 23 दिसंबर 2010
ऑस्ट्रेलियाई पुलिस
Image caption दोषी पाए गए लोग सिडनी के एक सैनिक अड्डे पर हमले की योजना बना रहे थे.

ऑस्ट्रेलिया में तीन लोगों को एक सैनिक ठिकाने पर आत्मघाती हमला करने की साज़िश रचने का दोषी पाया गया है.

मेलबर्न की एक अदालत में पांच लोगों पर मुक़दमा चला जिनमें से तीन लोगों को चरमपंथी हमले के षडयंत्र का दोषी क़रार दिया गया.

ज्यूरी ने अंतिम निर्णय पर पहुंचने के लिए पांच दिन का वक़्त लिया और उसके बाद महमूद फ़त्ताल, साने एदो आवेस और नाएफ़ अल सैयद को हमला करने की साज़िश का दोषी पाया.

ये पांच व्यक्ति सोमाली और लेबनानी मूल के ऑस्ट्रेलियाई नागरिक हैं और उनपर सिडनी स्थित हॉल्सवर्दी सैनिक ठिकाने को निशाना बनाने का अभियोग था.

इन लोगों को अगस्त 2009 में मेलबर्न में गिरफ़्तार किया गया था.

अफ़गान युद्ध

अधिकारियों का कहना है कि इन लोगों में से कुछ का संबंध सोमालिया स्थित चरमपंथी गुटों से था.

अधिकारियों के अनुसार इन लोगों की योजना स्वचालित हथियारों के साथ सैनिक अड्डे पर हमला करने की थी.

अभियोजन पक्ष का कहना था कि ये साज़िश पिछले साल फ़रवरी और चार अगस्त के बीच रची गई. चार अगस्त को ही इन लोगों को पुलिस ने एक बड़े ऑपरेशन में गिरफ़्तार किया था.

मुख्य अभियोजक निक रॉबिनसन ने कहा कि पांच में एक ने हमले के पक्ष में फ़तवा लेने के लिए सोमालिया का दौरा किया था और उन्होंने अफ़गानिस्तान के युद्ध में ऑस्ट्रेलिया के शामिल होने की आलोचना की थी.

अदालत में महमूद फ़त्ताल के उस बयान को पढ़ा गया जिसमें उसने पुलिस के गुप्तचर से कहा था, "अगर मुझे सैनिकों को मारने का रास्ता मिल जाए तो मैं ये ज़रुर करुंगा."

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार