आइवरी कोस्ट से पलायन शुरू

  • 26 दिसंबर 2010
Image caption आइवरी कोस्ट में दस हज़ार संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक सैनिक तैनात हैं

आइवरी कोस्ट से 14 हज़ार लोगों ने भागकर पड़ोसी देश लाइबेरिया में शरण ली है.

आइवरी कोस्ट में राजनीतिक अनिश्चतता और तनाव का माहौल बना हुआ है और गृह युद्ध भड़कने की आशंका व्यक्त की जा रही है.

आइवरी कोस्ट में नवंबर में हुए राष्ट्रपति चुनाव के बाद से विवाद जारी है, पहले से राष्ट्रपति पद पर रहे लॉराँ बागबो पद छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं जबकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनके प्रतिद्वंद्वी अलासान ओतारा को विजेता माना जा रहा है.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि वह अधिक से अधिक 30 हज़ार लोगों को बुनियादी सुविधाएँ मुहैया कराने की स्थिति में है.

दुनिया भर के कई नेताओं ने, जिनमें पूर्व औपनिवेशक शासक फ्रांस के राष्ट्रपति निकोला सार्कोज़ी भी शामिल हैं,बागबो से पद छोड़ने को कहा है जिसकी उन्होंने अनसुनी कर दी है.

देश छोड़कर भागने वालों में ज्यादातर लोग ओतारा के समर्थक हैं जिन्हें आशंका है कि पद पर जमे रहने वाले राष्ट्रपति के वफ़ादार सैनिक उन्हें प्रताड़ित कर सकते हैं.

स्थिति को कूटनीतिक स्तर पर सुलझाने की कोशिशें चल रही हैं, मंगलवार को तीन पड़ोसी देशों के राष्ट्रपति आइवरी कोस्ट जा रहे हैं जहाँ वे बागबो से मिलकर उनसे पद छोड़ने का अनुरोध करने वाले हैं.

बेनिन के विदेश मंत्री ने कहा है कि बेनिन, सिएरा लियोन और केप वर्दे के राष्ट्रपति एक बार फिर प्रयास करेंगे कि बागबो को पद छोड़ने के लिए मनाया जा सके.

बागबो पद छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं, उनका कहना है कि देश के उत्तरी भाग में चुनाव में बड़े पैमाने पर धाँधली हुई है अन्यथा चुनाव में वही जीतते.

शरणार्थियों की स्थिति संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थियों से संबंधित संस्था यूएनएचसीआर की प्रवक्ता फतुमाता लेयुने काबा ने बीबीसी से बातचीत में कहा है कि आइवरी कोस्ट छोड़कर भागने वाले ज्यादातर लोग देश के पश्चिमी हिस्से के गाँवों से निकले हैं.

Image caption बागबो पद से छोड़ने से साफ़ इनकार कर रहे हैं

उन्होंने बताया कि ये लोग कई दिनों तक पैदल चलने के बाद आइवरी कोस्ट से निकलर पड़ोसी देश लाइबेरिया पहुँचे हैं, अब भी बड़ी संख्या में लोगों का पलायन जारी है.

यूएनएचसीआर की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, "जैसे जैसे शरणार्थियों की संख्या बढ़ रही है, मानवीय सहायता की ज़रूरत भी बढ़ रही है, ख़ास तौर पर महिलाओं और बच्चों को अधिक मदद की ज़रूरत है."

इस विवाद के बीच विश्व बैंक ने आइवरी कोस्ट को दी जाने वाली सहायता पहले ही रोक दी है जबकि वेस्ट अफ्रीकन सेंट्रल बैंक ने आइवरी कोस्ट के सरकारी खाते का नियंत्रण अलासान ओतारा को देने की घोषणा की है.

राष्ट्रपति पद के दावेदार ओतारा संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक सैनिकों की सुरक्षा में राजधानी आबिजान के एक होटल में अपने समर्थकों के साथ कई दिनों से रह रहे हैं.

लौराँ बागबो ने संयुक्त राष्ट्र से कहा है कि वह अपने सभी 10 हज़ार शांति रक्षक सैनिकों को देश से हटा ले, संयुक्त राष्ट्र ने ऐसा करने से इनकार कर दिया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए