अब ननों पर लगा दुराचार का आरोप

‘स्टेला मारिस’ अनाथालय

बेल्जियम में ननों की ओर से चलाए जा रहे एक अनाथालय और स्कूल में यौन दुराचार का मामला सामने आने पर हड़कंप मच गया है.

‘स्टेला मॉरिस’ नाम के इस अनाथालय और स्कूल को लेकर एक व्यक्ति का आरोप है कि 1960 में इस अनाथालय में रहने के दौरान पांच साल तक ननों ने उनके साथ यौन दुर्व्यवहार किया.

पचास वर्षीय इस व्यक्ति का आरोप है कि बचपन में कई ननों ने अनाथालय में उनके साथ यौन दुराचार किया.

ग़ौरतलब है कि बेल्जियम के रोमन कैथलिक चर्च में यौन दुराचार के मामले पिछले कुछ सालों से लगातार सुर्खियों में हैं. अब तक ऐसे 500 मामले सामने आ चुके हैं.

विरोध और सच्चाई

इन मामलों को लेकर रोमन कैथलिक चर्च के ख़िलाफ़ दुनिया भर में विरोध प्रदर्शन भी किए गए हैं.

इन आरोपों के बाद अनाथालय ने उन सभी लोगों से सामने आने की अपील की है जिनके साथ अनाथालय में कभी भी इस तरह का कोई व्यवहार हुआ हो.

अनाथालय के प्रबंधन का कहना है कि उन्हें 1990 में हुए कुछ मामलों की जानकारी है और इस बाबत जांच के लिए वो पीड़ितों से सामने आने को कह चुके हैं

समाचार एजेंसी रॉयटर से बातचीत में इस व्यक्ति ने बताया, ''दो ननों ने मुझे अपने शयनकक्ष में बुलाया और मेरे साथ शारीरीक छेड़छाड़ करने लगीं. उन्होंने एक गाउन पहना था. मुझे याद है कि उन्होंने मेरे साथ ऐसा किया था. ''

उन्होंने कहा कि अब तक पुरुषों पर इस तरह के आरोप लगते रहे हैं लेकिन उन्हें बेहद दुख है कि कुछ महिलाओं ने उनके साथ इस तरह का व्यवहार किया.

इस मामले को लेकर जारी किए गए एक वक्तव्य में ‘स्टेला मॉरिस’ अनाथालय ने कहा है कि इस खबर ने अनाथालय के कर्मचारियों को सकते में डाल दिया है.

अनाथालय ने लिखा, ''हमने स्टेला मॉरिस में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों को लिखा है कि उनके पास अगर इस तरह के मामलों से जुड़ी कोई भी शिकायत या जानकारी है तो वो उसे जग-ज़ाहिर करें. हमें उम्मीद है सच्चाई जल्द ही सामने आएगी.''

संबंधित समाचार