‘चीन की सैन्य ताकत से चिंतित'

  • 10 जनवरी 2011
Image caption चीन का रक्षा बजट आज 77.9 अरब डॉलर का है.

अमरीकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स चीन की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं और उन्होंने चीन की बढ़ती सामरिक ताकत पर चिंता जताई है.

गेट्स की इस यात्रा का मकसद चीन के साथ संबंधों को बेहतर बनाना है.

पिछले साल अमरीका द्वारा तायवान को हथियार बेचे जाने के बाद चीन ने अमरीका के साथ अपने संबंधों को सीमित कर लिया था.

चीन, तायवान पर अपना अधिकार समझता है और अमरीका के इस क़दम पर उसने नाराज़गी ज़ाहिर की थी.

चीन की अपनी यात्रा के दौरान गेट्स ने कहा है कि चीन लगातार नए हथियार बना रहा है और यह अमरीका के लिए चिंता का विषय है.

सैन्य अभियान

उन्होंने कहा कि अमरीका को इस बात की जानकारी है कि चीन लगातार अपनी मिसाइल तकनीक को बढ़ा रहा है जिससे इस इलाके में अमरीकी विमानों को ख़तरा हो सकता है.

पिछले महीने जारी कुछ तस्वीरें से ये ज़ाहिर हुआ था कि चीन लड़ाकू जेट विमानों के प्रारूप भी तैयार कर रहा है.

गेट्स की यात्रा का मकसद सुरक्षा को लेकर पनप रही इन चिंताओं पर चर्चा करना है. अगले हफ़्ते चीन के राष्ट्रपति हू ज़िंताओ अमरीका की यात्रा पर होंगे.

हालांकि चीन का कहना है कि उसके ये हथियार पूरी तरह से रक्षात्मक कार्रवाई के लिए हैं.

पिछले कुछ महीनों में चीन ने अमरीका और दक्षिण कोरिया के बीच जारी सैन्य अभियान को लेकर चिंता जताई है.

यह अभियान चीन से सटे समुद्री इलाकों में किया जा रहा है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार