चीन की शांतिपूर्ण प्रगति अमरीका के हित में: ओबामा

हू जिंताओ और बराक ओबामा
Image caption हू जिंताओ और ओबामा ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अगर चीन शांतिपूर्ण तरीक़े से तरक्क़ी करता है तो ये अमरीका के लिए लाभदायक है.

बुधवार को चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ से मुलाक़ात के बाद एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ओबामा ने ये बातें कहीं.

ओबामा ने कहा कि एक दूसरे की प्रगति के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि दोनों देशों के रिश्ते बेहतर हों.

उन्होंने कहा कि अगर दोनों देश मिलकर काम करें तो ज्यादा समृद्ध और सुरक्षित होंगे.

राष्ट्रपति हू ने ओबामा से अपनी मुलाक़ात के बारे में कहा कि दोनों नेताओं ने खुले दिल से काफ़ी रचनात्मक बातें कीं.

हू ने कहा कि ऐसे बहुत सारे क्षेत्र हैं जिनमें दोनों देश मिलकर काम कर सकते हैं.

सीधी बातचीत

हू जिंताओ ने कहा कि दोनो देशों के बीच सहयोग परस्पर सम्मान पर आधारित होना चाहिए और दोनों देशों को एक दूसरे के विकास के रास्ते का सम्मान करना चाहिए.

दोनों देशों ने ओबामा के दफ़्तर व्हाइट हाउस में मुद्रा, व्यापार और सुरक्षा जैसे अनेक मुद्दों पर बातचीत की.

ओबामा ने कहा कि उन दोनों ने दुनिया को दिखा दिया है कि अगर दोनों देश एक दूसरे के साथ सहयोग करे तो क्या क्या कर सकते हैं.

ओबामा ने कहा, ''जब हम भविष्य की ओर देखते हैं तो आवश्यकता इस बात की है कि दोनों देशों के बीच सहयोग की भावना हो, जो कि दोस्ताना प्रतिस्पर्धा के रुप में भी हो सकती है.''

दोनों देशों के बीच व्यापार के बारे में ओबामा ने कहा कि दोनों देशों को समान अवसर मिलने चाहिए.

ओबामा ने कहा कि चीनी मुद्रा युआन की विनमय दर अब भी बहुत कम है और इसकी दर बाज़ार के अनुसार तय की जानी चाहिए ताकि व्यापार में चीन को नाजायज़ फ़ायदा न हो.

'मानवाधिकार'

चीन में मानवाधिकार के कथित हनन के मसले पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में ओबामा ने कहा कि दोनों नेताओं ने इस मुद्दे पर काफ़ी साफ़ और सीधी बातचीत की है.

उन्होंने कहा कि चीन ने इस मामले में काफ़ी प्रगति की है लेकिन अब भी बहुत कुछ किया जाना बाक़ी है.

ओबामा ने कहा कि अमरीका उन विषयों पर ध्यान केंद्रित करना चाहता है जिनमें सहमति बनी हुई है, हालांकि उन्होंने ये स्वीकार किया कि ऐसे कुछ क्षेत्र हैं जिनमें दोनों देशों के बीच मतभेद है.

ओबामा ने कहा कि मानवाधिकार के मुद्दे पर जल्द ही दोनों देश औपचारिक बातचीत शुरू करेंगे. ओबामा के अनुसार इससे चीन को बहुत लाभ होगा.

मानवाधिकार के मुद्दे पर हू जिंताओ ने कहा कि इस मामले मे बहुत कुछ किया जाना बाक़ी है और चीन इसके लिए बातचीत करने का इच्छुक है.

शांति के प्रयास

कोरियाई प्रायद्वीप में शांति बहाल करने के लिए दोनों नेताओं ने मिलकर काम करने का आश्वासन दिया.

इस बीच अमरीकी अधिकारियों ने जानकारी दी कि दोनो देशों ने 45 अरब डॉलर के व्यापारिक समझौते पर दस्तख़त किए हैं.

Image caption हू के सम्मान में ओबामा ने निजी भोज का आयोजन किया

हू जिंताओ चार दिनों के अमरीकी दौरे पर हैं.

इससे पहले बुधवार की सुबह राष्ट्रपति बराक ओबामा ने राष्ट्रपति हू जिंताओ का व्हाइट हाउस में भव्य स्वागत किया.

चीन का राष्ट्रगान गाया गया और साथ ही 21 तोपों की सलामी दी गई.

दोनों नेताओं के बीच औपचारिक बातचीत शुरू होने से पहले बराक ओबामा ने कहा कि दोनों देश अगर साथ मिलकर काम करेंगे तो ज़्यादा समृद्ध होंगे.

हू जिंताओ ने इस अवसर पर कहा कि दोनों देशों के संबंध हाल के महीनों में नए स्तर पर पहुँचे हैं.

संबंधित समाचार