सू ची को इंटरनेट मिला लेकिन सिग्नल कमज़ोर

आंग सान सू ची

बर्मा में लोकतंत्र की हिमायती नेता आंग सान सू ची को नज़रबंदी से रिहा होने के दो महिने बाद इंटरनेट की सुविधा दे दी गई है.

आंग सान सू ची के एक कर्मचारी ने कहा कि सैन्य सरकार की अनुमति के बाद उनके घर पर वायरलैस ब्रोडबैंड इंटरनेट कनेक्शन स्थापित कर दिया गया है.

हांलाकि आंग सान सू ची के एक सहयोगी ने बीबीसी को बताया है कि सिग्नल कमज़ोर होने की वजह से अबतक इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं किया जा सका है.

माना जाता है कि सू ची ने कभी इंटरनेट का प्रयोग नहीं किया है.

इंटरनेट की कालाबाज़ारी

Image caption सू ची ने दो महीने पहले रिहा होने के बाद इंटरनेट कनेक्शन के लिए आवेदन किया था.

एएफ़पी के अनुसार सूची के सुरक्षा प्रमुख विन हटीन ने कहा है कि सू ची इंटरनेट की सुविधा मिलने से ख़ुश हैं और वो इसका प्रयोग अपने समर्थकों से संपर्क साधने के लिए करेंगी.

आंग सान सू ची ने नज़रबंदी से रिहा होने के बाद एक निजी कंपनी में इंटरनेट की सुविधा के लिए आवेदन किया था लेकिन उनका ये अनुरोध बर्मा के सैन्य सरकार द्वारा चलाए जाने वाली एक कंपनी को बढ़ा दिया गया था.

वर्ष 1962 से सैनिक शासन में रह रहे बर्मा के लोगों को घर पर इंटरनेट का प्रयोग करने के लिए अधिकारियों से इजाज़त लेनी पड़ती है.

इसी वजह से बर्मा में इंटरनेट सुविधा मुहैया करवाने के लिए जोर-शोर से कालाबाज़ारी होती है.

संबंधित समाचार