सरकार पर प्रदर्शनकारियों का असर नहीं

इमेज कॉपीरइट Reuters

मिस्र में राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के ख़िलाफ़ प्रदर्शनकारियों की दृढ़ता के बावजूद सरकार भी अपने रुख़ पर क़ायम है. सरकार का कहना है कि राष्ट्रपति का तुरंत पद छोड़ना अव्यावहारिक है.

प्रधानमंत्री अहमद शफ़ीक़ ने बीबीसी को बताया है कि सितंबर में होने वाले चुनाव के लिए होस्नी मुबारक का पद पर बने रहना ज़रूरी है.

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति मुबारक का ये कहना है कि वे राष्ट्रपति पद के लिए मैदान में नहीं उतरेंगे, पद छोड़ने के बराबर है.

इस बीच काहिरा के मशहूर तहरीर चौक पर लाखों की संख्या में मुबारक विरोधी प्रदर्शनकारी जमे हुए हैं. रात के अंधेरे में भी नारेबाज़ी चल रही है, झंड़े लहराए जा रहे हैं और देशभक्ति के गीत गाए जा रहे हैं.

काहिरा के अलावा एलेक्ज़ैंड्रिया में भी हज़ारों लोगों ने प्रदर्शन किया है.

पिछले कई दिनों से मुबारक समर्थकों के साथ हुई झड़प के बाद प्रदर्शनकारियों ने चर्चित तहरीर चौक पर हज़ारों की संख्या में एकत्रित होकर राष्ट्रपति के त्यागपत्र की मांग और तेज़ कर दी है.

विचार-विमर्श

शुक्रवार को थोड़ी देर के लिए तहरीर चौक पर अरब लीग के महासचिव अम्र मूसा भी दिखे, तो मिस्र के रक्षा मंत्री भी वहाँ गए और प्रदर्शनकारियों के साथ-साथ सैनिकों से भी बातचीत की.

अम्र मूसा ने कहा है कि वे मिस्र में सत्ता के हस्तांतरण में भूमिका निभाने पर विचार करेंगे.

मिस्र के पूर्व विदेश मंत्री मूसा ने फ़्रेंच रेडियो से बातचीत में ये भी कहा कि राष्ट्रपति मुबारक के पद छोड़ने पर वे राष्ट्रपति चुनाव में खड़े होने पर भी विचार कर सकते हैं.

अमरीका ने कहा है कि वह सत्ता के व्यवस्थित हस्तांतरण पर मिस्र के नेताओं के साथ विचार-विमर्श कर रहा है.

सर्वसम्मति

गुरुवार को अमरीकी टेलीविज़न चैनल एबीसी न्यूज़ के साथ इंटरव्यू में होस्नी मुबारक ने कहा था कि वे तुरंत त्यागपत्र देने को तैयार हैं लेकिन उन्हें चिंता है कि कहीं इससे देश में अव्यवस्था न फैल जाए.

उन्होंने ये भी कहा था कि वे सत्ता से उकता गए हैं. होस्नी मुबारक पिछले 30 वर्षों से मिस्र के राष्ट्रपति हैं. उनके इस बयान पर चुटकी लेते हुए विपक्षी नेता मोहम्मद अल बारादेई ने कहा है कि वे ही नहीं देश की जनता भी उनसे उकता गई है.

इस बीच मुस्लिम ब्रदरहुड के एक वरिष्ठ सदस्य इसाम अल आर्यान ने इससे इनकार किया है कि उनका ग्रुप राष्ट्रपति पद के लिए किसी व्यक्ति को आगे करेगा.

उन्होंने कहा कि वे चाहेंगे कि राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष का कोई सर्वसम्मति वाला उम्मीदवार हो.

संबंधित समाचार