मुबारक की संपत्तियों पर अंतरराष्ट्रीय चिंता

  • 14 फरवरी 2011
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मुबारक के वित्तीय पक्ष को लेकर अंतरराष्ट्रीय चिंता व्यक्त की गई है.

मिस्र के अपदस्थ राष्ट्रपति होस्नी मुबारक की संपत्ति को लेकर अंतरराष्ट्रीय चिंताएं बढ़ गई हैं और ब्रिटेन ने कहा है कि सभी देशों को मिलकर मुबारक की अवैध संपत्ति का पता लगाना चाहिए.

स्विट्ज़रलैंड ने शुक्रवार को ही घोषणा की थी कि वो अपने यहां उन सभी खातों पर रोक लगा है जो संभवत मुबारक की हो सकती हैं.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ये चिंता व्यक्त की जा रही है कि मुबारक की संपत्ति अवैध रुप से जमा की गई है.

ब्रिटिश सरकार के व्यवसाय मंत्री विंस केबल का कहना था कि ये देखना ज़रुरी है कि मुबारक ने ये संपत्ति अवैध रुप से तो नहीं जमा की है और इसके लिए सभी देशों को मिलकर काम करना होगा.

मुबारक का संबंध ब्रिटेन से भी रहा है. लंदन में उनके बेटे गमाल एक निवेश कंपनी चलाया करते थे. एक ब्रितानी अख़बार ने यहां तक ख़बर दी है कि ब्रिटेन के गंभीर धोखाधड़ी कार्यालय ने ब्रिटेन में मुबारक की संपत्तियों की जांच भी शुरु कर दी है.

संसद भंग, संविधान लंबित

इस बीच मिस्र में सैन्य अधिकारियों ने संविधान को निलंबित करने और संसद भंग करने की घोषणा की है.

एक बयान में कहा गया है कि अगले छह महीनों तक सत्ता सर्वोच्च सैन्य काउंसिल के हाथ में रहेगी और संभवत अगले चुनावों तक सत्ता सेना के पास ही रहे.

देश में नए संविधान के निर्माण के लिए एक समिति बना दी गई है.

यह एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि देश के वर्तमान संविधान के तहत कई राजनीतिक दल चुनाव नहीं लड़ सकते हैं.

काहिरा में बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इन क़दमों से तहरीर चौक पर अभी भी मौजूद प्रदर्शनकारियों को संतोष हो सकता है क्योंकि अभी भी तहरीर चौक में बड़ी संख्या में लोग है जो ये मानने तो तैयार नहीं कि देश में सुधार ठीक से होने वाले हैं.

संबंधित समाचार