सेक्स मामले में बर्लुस्कोनी के ख़िलाफ़ मुकदमा

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अपनी पूर्व पत्नी के साथ सिल्वियो बर्लुस्कोनी

इटली में प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी के ख़िलाफ़ कम उम्र की एक लड़की के साथ सेक्स संबंध बनाने और सत्ता के दुरूपयोग का मुकदमा चलाए जाने का आदेश जारी हुआ है.

बर्लुस्कोनी पर आरोप है कि उन्होंने एक 17 साल की लड़की के साथ सेक्स संबंध बनाए और उसे उसके लिए पैसे दिए. इटली के क़ानून के अनुसार इस उम्र में वेश्यावृत्ति ग़ैरक़ानूनी है.

बर्लुस्कोनी पर ये भी आरोप है कि उन्होंने किसी अन्य मामले में गिरफ़्तार उसी लड़की की रिहाई के लिए पुलिस पर दबाव डाला.

जज क्रिस्टीनी डे सेंसो ने इस मामले की सुनवाई के लिए छह अप्रैल की तारीख़ तय की है और माना जा रहा है कि ये उन मुकदमों में होगा जिनका निपटारा तेज़ी से किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मेहरोग उर्फ़ रूबी का कहना है कि उन्हें पैसे उपहार स्वरूप दिए गए थे.

प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी और उस लड़की ने सेक्स संबंध से इंकार किया है और उनके वकीलों की दलील है कि इस मामले में जज के पास मुकदमा दायर करवाने का अधिकार नहीं है.

इटली में यौनकर्मियों के पास जाना कोई अपराध नहीं है लेकिन 18 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों से यौन संबंध रखने के मामले में जेल भी जाना पड़ सकता है.

बर्लुस्कोनी पर आरोप है कि उन्होंने करीमा अल महरोग जिसे ज़्यादातर लोग रूबी के नाम से जातने हैं के साथ पैसे देकर सेक्स संबंध बनाया.

महरोग ने यह स्वीकार किया है कि बर्लुस्कोनी ने उन्हें सात हज़ार यूरो उपहार स्वरूप दिए थे.

लेकिन उनका कहना है कि ये पार्टी में शामिल होने के लिए था.

इटली के समाचार पत्रों ने उन 20 से ज़्यादा महिलाओं के टेलीफ़ोन कॉल्स के विवरण छाप रहे हैं, जिन पर बर्लुस्कोनी की कथित सेक्स पार्टियों में शामिल होने का आरोप है.

हालाँकि प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी इन आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताते हैं.

बर्लुस्कोनी पर निजी फ़ायदों के लिए सत्ता के दुरूपयोग का भी आरोप है.

लेकिन उनका कहना है कि उन्होंने महरोग की जेल से रिहाई के लिए पुलिस को फ़ोन ज़रूर किया था लेकिन वो इसलिए क्योंकि उन्हें बताया गया था कि मोरोक्को की रहनेवाली महरोग मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति होस्नी मुबारक की पोती हैं.

यदि बर्लुस्कोनी पर ये दोनों आरोप साबित हो जाते है तो उन्हें 15 साल की जेल हो सकती है.

उनकी सुनवाई तीन जजों की बेंच करेगी और तीनों ही जज महिलाएं हैं.

संबंधित समाचार