लीबिया में तेज़ हुए प्रदर्शन, 23 की मौत

इमेज कॉपीरइट Getty

गुरुवार को आक्रोश दिवस के बाद भी शुक्रवार को लीबिया में प्रदर्शन जारी हैं. हज़ारों लोग बेनगाज़ी शहर में सड़कों पर उतर आए हैं. खबरों के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने शहर की कई पुलिस चौकियों को आग के हवाले कर दिया है.

लीबिया के प्रमुख शहर बेनग़ाज़ी में भी हज़ारों लोग सरकार विरोधी प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर उतर आए हैं. मौके पर मौजूद लोग शहर की अदालतों के सामने इकट्ठा हो गए और लीबिया में सुधारों की मांग की.

नागरिक अधिकारों के लिए लड़ रहे कार्यकर्ताओं का कहना है कि सरकार ने इंटरनेट सेवाओं को बाधित कर दिया है और मारे जा रहे प्रदर्शनकारियों के बारे में कोई भी जानकारी लोगों तक पहुंचने नहीं दी जा रही है.

मानवाधिकारों से जुड़ी संस्था ह्मूमन राइट्स वॉच सका कहना है गुरुवार को हुए प्रदर्शनों में 24 लोग मारे जा चुके हैं. लीबिया के चिकित्सा अधिकारियों ने 23 लोगों के मरने की पुष्टि की है. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मृतकों की संख्या और ज़्यादा हो सकती है.

पिछले कुछ दिनों से कई अरब देशों में सरकार विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं. मिस्र और ट्यूनीशिया में राष्ट्रपतियों को सत्ता छोड़नी पड़ी है.

लीबिया में पहली दफ़ा प्रदर्शन हुए हैं. संवाददाता का कहना है कि रिपोर्टों से पता चलता है कि सरकार ने कड़ा रुख़ अपनाया हुआ है जिसमें लोगों पर गोली चलाना और अस्पतालों में सप्लाई बंद करना शामिल है.

गुरुवार को मारे लोगों को शुक्रवार को दफ़नाया जा रहा है जिसके बाद और प्रदर्शन हो सकते हैं.

ग्रीन स्क्वेयर पर लीबिया सरकार का समर्थन करने वाले लोग भी जमा हैं. एएफ़पी के मुताबिक कर्नल गद्दाफ़ी शुक्रवार को थोड़ी देर के लिए ग्रीन चौराहे पर आए थे.

कर्नल गद्दाफ़ी अरब जगत में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाले नेता हैं. 1969 में लीबिया में हुए सत्ता पलट के बाद से वे शासन कर रहे हैं.

संबंधित समाचार