मुस्लिम समलैंगिक निकाह की राह पर

  • 21 फरवरी 2011
समलैंगिक परेड इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दुनिया में कई देशों में समलैंगिक अपने अधिकार के लिए उठ खड़े हुए हैं.

ब्रिटेन में रहने वाले मुस्लिम समलैंगिकों ने भी दुनिया के दूसरे देशों में रहने वाले समलैंगिकों की तरह समानता के अधिकार के आंदोलन में खुद को शामिल कर लिया है. वे इस्लामी रीति-रिवाज के मुताबिक़ निकाह करने की ख़्वाहिश रखते हैं.

बीबीसी ने एक ऐसे ही समलैंगिक जोड़े से उनके निकाह के बारे में बात की और उनसे पूछा कि वे अपनी लैंगिक पहचान और अपने धर्म इस्लाम में संतुलन कैसे रख पाएंगी:

इस जोड़े ने बताया, "हमारी मुलाक़ात तीन साल पहले रमज़ान के महीने में एक इफ़तार पार्टी में हुई थी. मेरे विचार से मुसलमानों की एक बहुत बड़ी संख्या इस महीने को आध्यात्मिक मानती है और मेरे विचार से यही कारण है कि हम लोगों के बीच एक रिश्ता क़ायम हो गया क्योंकि हमने अपने धर्म के बारे में विचारों का आदान प्रदान किया."

असरा ने आगे कहा, "बाद में इस सिलसिले को हमने आगे बढ़ाया और हम डेट पर गए."

प्रस्ताव

असरा तीन साल पहले अपनी पार्टनर सारा से पहली मुलाक़ात को याद कर रही थीं. ये समलैंगिक मुस्लिम जोड़ा ब्रिटेन के समलैंगिक जोड़ों में से एक है जिन्होंने निकाह के ज़रिए अपने रिश्ते को मज़बूत आधार पर रखा है.

असरा उस वक़्त को बड़े मज़े लेकर याद करती हैं जब सारा ने उनसे शादी की पेशकश की थी. उन्होंने कहा, "एक घंटे की मुलाक़ात के अंत में सारा ने बिना किसी बहाने और दलील के मुझ से शादी की पेशकश कर डाली."

इसी बीच सारा भी आ गईं. उन्होंने कहा, "मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे वह मुलाक़ात चार घंटे तक चली हो. उस बीच हमने रात का खाना खाया, कॉफ़ी पी और सैर की. मैंने कोई योजना नहीं बनाई थी लेकिन मुझे ऐसा लगा कि हमारे बीच इसी तरह होना था. मेरा विचार था कि जहां तक संभव हो मुझे इस रिश्ते को पाक-साफ़ रखना चाहिए."

उन्होंने कहा, "समलैंगिक होने के नाते शायद ये अजीब लगे लेकिन मैंने महसूस किया कि हमें जहां तक संभव हो इसे सम्मानजनक तरीके से पूरा करना चाहिए."

इस्लामी तरीक़ा

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ब्रिटेन में समलैंगिक शादियों का रिवाज बढ़ रहा है.

असरा और सारा ने इस्लामी परंपरा के तहत निकाह का फ़ैसला किया. हालांकि निकाह पुरूष और महिला के बीच शादी के बंधन के लिए है लेकिन असरा और सारा को पता था कि उनसे पहले भी मुस्लिम समलैंगिक इस तरीक़े को अपना चुके हैं. इसलिए उन्होंने इसके बारे में और अधिक जानकारी हासिल करने की ठान ली.

सारा ने कहा, "कुछ सहेलियों ने हमें बताया कि इसके लिए हमें किसी सरकारी इमाम की ज़रूरत नहीं है, बल्कि ऐसे व्यक्ति की ज़रूरत है जो क़ुरान का बहुत ज्ञान रखता हो. सौभाग्य से मेरी एक सहेली ऐसी थी जिसे क़ुरान का काफ़ी ज्ञान था और उसने निकाह पढ़ाने के लिए हां कर दी. वह ख़ुद भी समलैंगिक थी और उसने कहा कि निकाह घर पर भी हो सकता है."

उनकी पहली मुलाक़ात और शादी की पेशकश के तीन महीने बाद दोनों का निकाह हुआ. इस मौक़े पर असरा ने एक सफ़ेद शलवार-क़मीज़ पहनी जबकि सारा ने एक गुलाबी वस्त्र पहना. सारा ने कहा, "मैं तो चमड़े का वस्त्र पहनाना चाहती थी लेकिन असरा ने मना कर दिया."

उन्होंने कहा, "हमने केमडिन मार्केट से अंगूठियां ख़रीदीं और एक निकाह-नामा तैयार किया. हमने पुरूष-महिला वाली शादी का एक फ़ॉर्म इंटरनेट से डाउनलोड किया और इसका अलग-अलग अध्यन किया ताकि ये पता लगाया जा सके कि इसमें किसी परिवर्तन की ज़रूरत तो नहीं."

सारा ने कहा, "मुझे याद है मैंने उसमें अपने कुत्ते का ज़िक्र किया था अगर हमारे बीच अलगाव हो जाए तो कहीं ऐसा न हो कि असरा कुत्ते को चोरी करके ले जाए." इस मौक़े पर असरा ने आंखें घुमाई और कहने लगी, "हमने पांच पाउंड का हक़ मेहर तय किया था. ये एक सांकेतिक चीज़ थी और हमारे पास अभी तक वो पांच-पांच पाउंड के नोट मौजूद हैं."

सहेलियां

उनके निकाह में छह सहेलियाँ आई थीं जो उनके निकाह की गवाह भी थीं, और एक बिल्ली ने भी, सारा बीच में बोलीं. ये छोटा सा आयोजन अरबी भाषा में हुआ जिसमें कुछ अन्य दुआएं भी पढ़ी गईं.

उनका कहना है कि शादी का ये समारोह किसी भी दूसरी शादी से अलग नहीं था.

इस्लाम में समलैंगिकता पूरी तरह से अवैध है और चूंकि ये निकाह दो समलैंगिकों के बीच हो रहा था इसलिए ये ख़ुद असरा के माता-पिता समेत मुस्लिम बहुसंख्यक के लिए अत्यंत घ्रणास्प्रद चीज़ थी.

असरा का कहना है कि उनके लिए अपने परिवार को यह बताना कि वह एक समलैंगिक महिला हैं बहुत मुश्किल था. उन्हें पता है कि मैं धार्मिक हूं लेकिन इस हद तक जाना कि मैं उन्हें बता सकूं कि मैं समलैंगिक हूं मुश्किल है.

असरा ने कहा, "मुझे याद है कि मैंने ख़ुद से कहा था कि यह एक मात्र मौक़ा है जब मैं अपनी शादी कर सकती हूं क्योंकि मेरे परिवार के लोग वहां नहीं थे. मेरे दिमाग़ में हमेशा ये बात आ रही थी कि मैं इस्लामी तरीक़े से निकाह कर रही हूं और जहां तक संभव है मैं इस्लामी परंपरा बरक़रार रख रही हूं."

फिर भी सारा के अपने परिवार से संबंध बिलकुल ही अलग है. उन्होंने कहा, "क्योंकि मैं मुस्लिम परिवार में पैदा नहीं हुई थी और मैंने सिर्फ़ पांच साल पहले ही इस्लाम धर्म स्वीकार किया था इसलिए मेरा परिवार समलैंगिकता को क़बूल कर रहा है. लेकिन कई बार ऐसा लगता है कि वे इस बात का इंतिज़ार कर रहे हैं कि कब मैं इस्लाम धर्म को छोड़ रही हूं."

सरोकार

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दुनिया के कई देशों में ये नज़ारा नज़र आता है.

सारा और असरा को मालूम है कि उनकी शादी परंपारगत नहीं है और ये कि दो समलैंगिकों की शादी को ज़्यादातर उलेमा रद्द कर देंगे लेकिन सारा का कहना है कि उससे किसी को सरोकार नहीं होना चाहिए.

उन्होंने कहा, "ये मेरे और मेरे ख़ुदा के बीच का मामला है और जब हमने शादी की तो ये कोई सामान्य स्थिति नहीं थी, लेकिन हमने अपनी तरफ़ से पूरी कोशिश की."

ऐसा नहीं है कि मुस्लिम समाज में सारा और असरा जैसे समलैंगिक जोड़ों को विरोध का सामना नहीं करना पड़ता. सारा का कहना है कि उन्हें महसूस होता है कि समलैंगिकों में भी इस्लाम से नफ़रत की भावना पाई जाती है और इसी कारण वह कभी-कभी चिंतित हो उठती है.

असरा ने ख़ास तौर पर एक अप्रिय घटना का ज़िक्र करते हुए कहा, "एक बार गे-परेड का मौक़ा था, जब परेड में शामिल एक व्यक्ति ने पीछे मुड़ कर बड़े ही भोंडे अंदाज़ में कहा कि हमें नहीं पता कि आत्मघाती बमबारों को भी परेड में शिरकत की इजाज़त है और मेरे लिए मार्च में शामिल एक व्यक्ति की ओर से यह टिप्पणी काफ़ी दुखद थी."

फिर भी सारा का कहना है कि सिर्फ़ मुसलमान ही नहीं हैं जिन्हें समलैंगिक समुदाय ख़ारिज कर रहा है. उनका कहना है, "मेरे विचार से इस समुदाय के सेकुलर तत्व में ये सोच पाई जाती है कि आप समलैंगिक भी हों और अपने-आप या भौतिकवाद के अलावा किसी और चीज़ पर विश्वास भी रखते हों."

बहरहाल उनका ये कहना है कि ये समलैंगिक निकाह अभी विवादित मुद्दा है लेकिन मैं इतना कह सकती हूं कि मैंने ये किया है और मैं अपने धर्म और विश्वास से पूरी तरह संतुष्ट हूं, मुझे आशा है कि लोग इसे बुरी नज़र से नहीं देखेंगे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार