लीबिया में हिंसा की जांच हो - संयुक्त राष्ट्र

नवी पिल्लै इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार आयुक्त ने लीबिया में हो रही हिंसा की अंतरराष्ट्रीय जांच की मांग की है

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त नवी पिल्लई ने कहा है कि लीबिया में हो रही हिंसा की अंतरराष्ट्रीय जांच होनी चाहिए. नवी पिल्लई ने कहा कि सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमलों को मानवता के विरुद्ध अपराध की संज्ञा दी जा सकती है.

संयुक्त राष्ट्र ने लीबिया से तुरंत प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ हवाई जहाज़ों से हमलों और मशीन गनों के इस्तेमाल को रोकने के लिए कहा है.

लीबिया में मचे कोहराम पर चर्चा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा समिति की आज बैठक हो रही है.

अरब जगत में चल रहे प्रदर्शनों के बीच ये पहली बार है कि किसी देश की स्थिति पर चर्चा के लिए सुरक्षा परिषद मिल रही है.

दिलचस्प बात ये है कि ये बैठक सयुंक्त राष्ट्र में लीबिया के उप राजदूत इब्राहिम दब्बाशी के निवेदन पर बुलाई गई है.

इब्राहिम दब्बाशी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से लीबिया के लोगों को सरकार से बचाने की गुहार लगाई है.

मिस्र-लीबिया सीमा पर चौकसी

इसीबीच मिस्र ने लीबिया और मिस्र के बीच सीमारेखा पर सैन्य तैनाती बढ़ा दी है. मिस्र की सैन्य परिषद ने कहा है कि उन्होंने सीमा पर और सैनिक भेज दिए हैं.

ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि हज़ारों शरणार्थी मिस्र और लीबिया की सीमा पर स्थित सालम नामक सीमा चौकी पर जमा हो रहे हैं. ये लोग मिस्र में दाख़िल होने का प्रयास कर रहे हैं.

लीबिया में संकट शुरू होने के बाद से मिस्र के हज़ारों नागरिक लीबिया छोड़ अपने देश लौट चुके हैं.

मिस्र की सेना ने सीमा पर दो अस्पताल खोले हैं जहां लीबिया से आ रहे बीमार और घायल लोगों का ईलाज हो रहा है.

संबंधित समाचार