चीन में प्रदर्शनकारी तितर बितर

शंघाई और बीजींग में विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अरब दुनिया की जैस्मीन क्रांति की महक अब चीन में भी पहुंच रही है लेकिन सरकार उसे दबाने की हर संभव कोशिश कर रही है.

चीन में अधिकारियों ने सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को तितर बितर कर दिया है.

सरकार के विरोधियों ने लोगों से बीजिंग और शंघाई शहर के मुख्य केंद्रों पर जमा होकर सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने का आह्वान किया था.

ये अपील चीन के बाहर एक वेबसाईट के ज़रिए की गई थी.चीन में सरकार व्लॉग और इंटरनेट पर कड़ी निगरानी रख रही है ताकि विरोध प्रदर्शन के आह्वान की ख़बर को रोका जा सके.

ये लगातार दूसरा सप्ताह है जब कुछ अज्ञात लोगों ने लोगों से सरकार के विरोध में सड़कों पर उतरने की अपील की है.बीबीसी संवाददाता क्रिस हॉग के अनुसार शंघाई के मुख्य चौराहे पर जमा हो रहे लोगों को वहां से हटाने के लिए पुलिस ने सीटियों और लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया.

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए वहां सैकडों अधिकारी मौजूद थे.

पिछले सप्ताह के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा.पुलिस लोगों को लगातार चलते रहने के लिए कह रही थी और किसी को भी एक जगह जमा होने की इजाज़त नहीं थी. इसके लिए पुलिस कई तरह की गाड़ियों का भी प्रयोग कर रही थी.

पत्रकारों को भी किसी से बात करने,उनकी तस्वीर खिंचने या उसकी विडियो बनाने की इजाज़त नहीं थी.

बीजिंग मे भी लगभग 300 अधिकारियों ने लोगों को विरोध प्रदर्शन के लिए तय की गई जगह पर जाने से रोका.पुलिस ने पूरे इलाक़े को घेर रखा था.आधे घंटे के बाद पुलिस ने उसे पूरी तरह ख़ाली कराना शुरू कर दिया.

बीबीसी के एक स्टाफ़ को भी पुलिस ने पकड़ लिया था जब वो वहां हो रही गतिविधियों की फ़िल्म बनाने की कोशिश कर रहे थे.बाद में पुलिस स्टेशन ले जाकर उन्हें छोड़ दिया गया.

शंघाई में पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है.उनमें से एक वहां की तस्वीर खींच रहे थे लेकिन ये पता नहीं की बाकीं चार लोगों को किसलिए हिरासत में लिया गया है.इस हंगामें को देखने के लिए जमा हुए लोग भी हैरान थे कि क्या हो रहा है.

सरकार से बहुत सारे लोग नाराज़ थे लेकिन कोई भी पुलिस के सामने कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं था.

संबंधित समाचार